(महामहिम श्री नलिन सूरी कथा यू.के. के महासचिव तेजेन्द्र शर्मा को पुरस्कार की धनराशि प्रदान करते हुए। साथ हैं श्रीमती ज़कीया ज़ुबैरी (संरक्षक) एवं दीप्ति शर्मा, उपसचिव।)
--------------------- 

(लंदन – 20 मार्च 2011) ब्रिटेन में भारतीय उच्चायुक्त महामहिम श्री नलिन सूरी ने कथा यू.के. को हिन्दी साहित्य एवं भाषा के प्रचार प्रसार के लिये वर्ष 2010 का फ़्रेड्रिक पिन्कॉट सम्मान प्रदान करते हुए उनके कार्यक्रमों की भूरि भूरि प्रशंसा की।

सम्मान ग्रहण करते हुए तेजेन्द्र शर्मा (महासचिव – कथा यू.के.) ने उच्चायोग को धन्यवाद दिया कि कथा यू.के. द्वारा हिन्दी साहित्य को विश्व पटल पर स्थापित करने के लिये किये जा रहे काम को सराहना मिली है। उन्होंने अम्बेडकर हॉल में उपस्थित मेहमानों को बताया कि कथा यू.के. हर वर्ष ब्रिटेन की संसद के हाउस ऑफ़ कॉमन्स एवं हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स में भारतीय साहित्य को स्थापित करने के लिये अंतरराष्ट्रीय इंदु शर्मा कथा सम्मान एवं पद्मानंद साहित्य सम्मान का आयोजन करती है।
तेजेन्द्र शर्मा ने आगे कहा कि पिछले वर्ष कथा यू.के. ने टोरोंटो (कनाडा) में एक हिन्दी कहानी की कार्यशाला का आयोजन किया था जबकि इसी वर्ष फ़रवरी में डी.ए.वी. कॉलेज यमुना नगर के साथ मिल कर भारत में तीन दिवसीय प्रवासी कहानी सम्मेलन का भी आयोजन किया था। कथा यू.के. समय समय पर हिन्दी सिनेमा से जुड़े कार्यक्रमों का भी आयोजन करती रही है।

उन्होंने आगे सूचना दी कि आगामी 14 अप्रैल 2011 को कथा यू.के. हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स में एक विशेष कार्यक्रम आयोजित करने जा रहा है जिसमे भारत के प्रमुख मोटिवेशनल स्पीकर श्री मिनोचर पटेल श्रोताओं से बात करेंगे। उनके भाषण का मुख्य मुद्दा होगा Happiness – the Indian Way. उन्होंने भारतीय उच्चायोग, आई.सी.सी.आर एव् नेहरू सेन्टर का निरंतर समर्थन के लिये धन्यवाद किया।


इस कार्यक्रम में उषा राजे सक्सेना को हरिवंशराय बच्च्न सम्मान, स्वर्गीय महावीर शर्मा को हज़ारी प्रसाद द्विवेदी सम्मान (पत्रकारिता – मरणोपरांत), एवं एश्वर्ज कुमार को जॉन गिलक्रिस्ट सम्मान (अध्यापक) भी प्रदान किये गये।

कार्यक्रम का आयोजन भारतीय उच्चायोग लंदन में किया गया। उप-उच्चायुक्त श्री प्रसाद एवं मंत्री संस्कृति श्रीमति मोनिका मोहता मंच पर आसीन थे। हिन्दी एवं संस्कृति अधिकारी श्री आनंद कुमार ने संचालन किया।

10 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget