रहता नहीं है दिल भी तो अपना कभी कभी
अक्सर हुआ है जा के किसी का कभी कभी

सहरा में सिर्फ़ कांटों भरी झाड़ियाँ नहीं
लाला भी उनमें खिलता मिलेगा कभी कभी

कांटों से ज़ख़्म मिलता है, मरहम गुलाब से
यूँ भी गुलाब बनता मसीहा कभी कभी.

वो ख़्वाब था, वो ख़्वाब है, वो ख़्वाब ही रहा
टूटा हक़ीक़तों से भी नाता कभी कभी

वो ज़िन्दगी मेरी जो चली आँखें फेर कर
इस बेरुखी से दिल मेरा टूटा कभी कभी

छिड़ती है एक जँग- सी देवी ख़्याल में
उससे भी जूझना हमें पड़ता कभी कभी

3 comments:

  1. CHHIDTEE HAI EK JANG SEE `DEVI` KHYAAL MEIN
    US SE BHEE JOOJHNAA HAMEN PADTAA KABHEE KABHEE
    DEVI NAGRANI KEE GAZAL KE KYAA KAHNE
    HAI ! MALA MEIN MOTI PIROYE HUEE SEE LAGEE HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वो ख़्वाब था, वो ख़्वाब है, वो ख़्वाब ही रहा
    टूटा हक़ीक़तों से भी नाता कभी कभी

    वो ज़िन्दगी मेरी जो चली आँखें फेर कर
    इस बेरुखी से दिल मेरा टूटा कभी कभी


    बहुत सुंदर...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget