जब तुम गाँव से विदा हुयी होगी,
मैं नहीं जानता
तुम्हारी स्थिति क्या रही होगी?

उस वक्त तुम्हारी आँखों से
जो आँसू गिरे होंगे
कौन बता सकता है कि वो
परिवार से दूर जाने के आँसू थे या
मुझसे हमेशा के लिए बिछड़ने के।

मैं नहीं जानता कि मुझसे बिछड़कर
तुम पर क्या गुज़री होगी?
मगर, मैं जानता हूँ कि
तुमसे बिछड़ने के बाद मुझ पर क्या बीती?
मैं ये भी जानता हूँ
कि अगर तुम्हें कभी चोरी छिपे
मुझे पत्र लिखने का मौका मिला
तो तुम लिखोगी- "मुझे भूल जाओ"

जानता हूँ कि तुम्हें भुलाना पड़ेगा
और, किसी ना किसी के साथ
बंधन में बंधना भी पड़ेगा।
पता नहीं वो
किस से बिछड़कर पहुँचेगी मुझ तक
जैसे तुम मुझसे बिछड़कर पहुँची हो किसी तक।

दुख इस बात का नहीं कि
दुनियाँ वालों ने हमें मिलने नहीं दिया
अफसोस तो ये है
कि मज़ारों पर चढ़ायी गयी चादरेँ
और पीपल पर बाँधे गये धागे भी हमें
जुदा होने से बचा नहीँ सके.....!

6 comments:

  1. अनिरुद्ध16 मई 2011 को 11:33 am

    दुख इस बात का नहीं कि
    दुनियाँ वालों ने हमें मिलने नहीं दिया
    अफसोस तो ये है
    कि मज़ारों पर चढ़ायी गयी चादरेँ
    और पीपल पर बाँधे गये धागे भी हमें
    जुदा होने से बचा नहीँ सके.....!

    खूब कही है सिराज भाई। दिल को छू लिया। सुभानअल्लाह।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कईयों की दास्तान.......दर्द भरी...

    उत्तर देंहटाएं
  3. पता नहीं वो
    किस से बिछड़कर पहुँचेगी मुझ तक
    जैसे तुम मुझसे बिछड़कर पहुँची हो किसी तक।
    dahre bhav
    दुख इस बात का नहीं कि
    दुनियाँ वालों ने हमें मिलने नहीं दिया
    अफसोस तो ये है
    कि मज़ारों पर चढ़ायी गयी चादरेँ
    और पीपल पर बाँधे गये धागे भी हमें
    जुदा होने से बचा नहीँ सके.....!
    sunder likha hai bahut hi prabhavi kavita
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  4. अंतरात्मा को छु गयी .......इस रचना की एक एक पंक्तियाँ .........लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget