यंत्रों की भारी भीड़ में;
भाव सभी कहीं खो गए,
सम्बन्ध ह्रदय का नहीं रहा;
रिश्ते निःशब्द हो गए,
पैरों की गति तीव्र हुई;
कंठ और स्वर हुए मौन,
तन की थकान, मन की थकान;
आँखों की भाषा पढ़े कौन?
तू है पुरानी संगिनी;
मेरी कलम मुझे थाम ले,
घुटकर न रह जाए अनकही;
मेरे अपनों को पैगाम दे.

5 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर है | लेकिन और आगे क्यों नहीं बढाया ?

    अवनीश तिवारी
    मुम्बई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. तू है पुरानी संगिनी;
    मेरी कलम मुझे थाम ले,
    घुटकर न रह जाए अनकही;
    मेरे अपनों को पैगाम दे.
    बहुत खूब किरण जी। यूँ तो पूरी रचना भावपूर्ण है सुन्दर संदेश के साथ। वाह।
    सादर
    श्यामल सुमन
    +919955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget