आज लगता है शायद बदल गया है आदमी ,
अपने लगाये आग में ही जल गया है आदमी,

कल जिस चीज  की ओर नजर  भी नही फेरता था,
आज  उसी के लिए  ही क्यूँ मचल गया है आदमी  ,

कल तक था जो पत्थरों  की तरह  अडिग ,
आज बर्फ की तरेह क्यूँ गल गया है आदमी ,

कल तक तो जिसकी कोई सीमा ही तय नही नही थी,
आज तो साचें में ही ढल गया है आदमी,

डरता था जो कभी धोखे की बात करने से भी,
आज तो विश्वास को ही मसल  गया है आदमी,

कल डरता था आसमा की और देखने से जो ,
आसमा को आज पैरों तले  कुचल गया है आदमी ,

कल तक खून के दबे से डरता था जो ,
आज करके एक क़त्ल  गया है आदमी ,

बताता था कल आदमी की पहचान जो ,
आदमियत को आज वह बदल गया है आदमी ,

अपने लगाये आग में ही जल गया है आदमी ,
आदमी के मायने बदल गया है आदमी





राजीव कुमार पाण्डेय 
पेशे से :-   Institute of Engineering and Technology. GIDA Gorakhpur . में अध्यापन कार्य .
1996  से साहित्य सेवा  की  शुरुआत जो अभी भी चल रही है ..
संपर्क सूत्र :- 09454485904

5 comments:

  1. bhut bhut dhywadi hu mai Sahity Shilpi pariwar ka ..

    sadar neh aur aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस युग के मुताबिक आपकी कविता बिलकुल सही है !

    मनुष्य अपनी मनुष्यता को खोता जा रहा है .......!
    जब मैंने आपको कविता को पढ़ा काफी अच्छा लगा !

    Hitendra Singh
    From : Bihar
    Graphic and Webdesinger
    09582874771

    उत्तर देंहटाएं
  3. aap sbhi ne hmari kavita pasand kiya iske liye hum aapke bhari hein........

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget