Photobucket

बस प्यारे, अपने तो वारे के न्यारे हो गये। पिछले दिनों हथेली में खाज चली और पांच बोरे प्याज़ खरीद मारे। फिर क्या था, अब तो नौकरी वोकरी छोड़कर प्याज बेचने का काम शुरू करना है। कितना दूरदर्शी हूं मैं भी, कम से कम केन्द्रीय कृषि मंत्री तो बनने लायक हूँ ही। सरकार अब प्याज़ खुद बेचने के चक्कर में है मगर हम भी कम पढ़े लिखे बनिये नहीं है। हम अब प्याज़ नहीं बेचेंगे, हमारा प्याज़ बाजार में आते ही बाजार भाव ही खराब हो जायेगा। हम प्याज़ पूरा तीन सौ रूपये किलो में बेचेंगे, सरकार कितना बेचती है वो हम सब जानते है। अगर बेचेगी भी तो लायेगी कहां से ? पांच बोरे तो हम अकेले ले मारे। दिने में प्याज़ की रखवाली गहने से ज्यादा करते है। यह हमारी र्इज्जत बन गया है, घर में प्याज़ की ही खुश्बू है। पडा़ैसी तो बोलते हैं कि इस बार तो सेठ चिरजींलाल की लाटरी ही लग गर्इ है। रोज पूछते है कि सेठ प्याज़ कब बेच रहे हो ? मेरा तो एक ही जवाब है कि जिस दिन प्याज़ को लेकर देश में गृहयुद्ध हो, उसी दिन प्याज़ बेचकर देश को बचाया जायेगा। अब हम भी तो देश के सच्चे सेवक है। जब दोस्त घर में आते हंै तो बोलते हैं कि यार अजीब रहीस हो, इस समय प्याज़ खा रहे हो। खाते नहीं प्यारे, हम तो सब्जी के पास प्याज़ ले जाकर उसे प्याज़ का दर्शन करा देते है ताकि मजा भी आ जाये और खर्चा भी बच जाये। अब देश में प्याज़ कम हो तो इसका जवाब मुझे तो देना नहीं होता, वो तो कृषि मंत्री जी का मामला है लेकिन उनको मुझे प्याज़ सलाहाकार जरूर रखना चाहिये था। नहीं रखे तो भुगत रहे हैं अपनी। पतिन का सोचना भी ठीक है, वो कहती है कि तुम अभी प्याज़ को सस्ते में बेच दो। लोगों में तुम्हारी र्इज्जत बन जाये तो फिर दूध भी रेस पकड़नेवाला है। दूध सस्ते में बेच दिया तो विधानसभा चुनाव आराम से निकाल सकते हो। बात तो हमे भी सही लगती है लेकिन सोचते हैं कि मौका है हाथ से क्यूं जाने दे, जब कुछ निवेश करना ही है तब लोकसभा चुनाव तो ले पड़ेंगे। यह भी सोचते हैं कि एक तो अखिल भारतीय प्याज़ संघर्ष पार्टी बनाकर उतार दें उम्मीदवार मैदान में। लेकिन यह सब हमें जचता नहीं है, मेरा तो मानना है कि भर्इ मुनाफा कमाना है, चुनाव उनाव में क्या रखा है। वैसे भी मुझे घोटाला करना तो आता नहीं। मुझे तो बस, अपना प्याज़ बेचकर धंधा शुरू करना। फिर दूध, फिर चीनी। कुल मिलाकर हमारा धंधा चौपट होने वाला नहीं है। इस बार किसान प्याज़ बोकर अमीर होने के चक्कर में है लेकिन हम कह दिये है कि क्यों जमीन खराब कर रहे हो, दो रूपये किलो बिकेगा। मानता ही नहीं है। हम और सरकार जब तक जिंदा है वो अमीर नहीं हो सकता, वो इतना दूरदर्शी है नहीं।
 रातभर प्याज़ की रखवाली करनी पड़ती है ना, प्याज़ चोर इतने हो गये है कि सोना छोड़ देंगे मगर प्याज़ का छिलका भी नहीं छोड़ेगे।
 शायद रात के तीन बजे होंगे कि अचानक घर में कोर्इ घुस गया। एक बार तो तमंचा निकाल लिया था मगर देखा तो अपना कबीरदास निकला।
मैंने पुछा,'साधु! तुम इतनी रात को कैसे टपके ?'
तुम्हें जागता हुआ देखकर आ गया है, कबीर सोता तो है नहीं, वो तुमने पढ़ा होगा- सुखिया सब संसार है।'
'वो सब छेाड़ो, हम तो प्याज़ के चक्कर में जगे हुए है'
 कबीर जी ने नया प्याज़ राग बनाया था, वो हमे सिखाने लगे। मैं कबीर जी के पीछे पीछे गाने लगा। राग सिखाने के बाद जाने लगे तो दो प्याज़ भी उठा लिये। अब, कबीर जी को मना तो नहीं कर सकता था। सुबह सारे मौहल्ले में प्याज़ राग गाया जा रहा था और मैं दो प्याज़ के नुकसान में पक्का राग गा रहा था।   

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget