वह मीडिया से थी | चेनल पर मसालेदार खबर परोसने के लिए उसे शहर यकायक उसकी नज़र एक पुस्तकालय पर पड़ी | ज्ञात हुआ कि किसी पुस्तक-प्रेमी ने अपनी इमारत के बेसमेंट में पुस्तकालय कि स्थापना की है | 

प्रश्न था कि उन्होंने पुस्तकालय ही क्यों बनवाया ,कोई मॉल क्यों नहीं जिससे उन्हें आमदनी भी होती? 

उत्तर था- उनके पुस्तक-प्रेम ने ऐसा करवा दिया | 

उसने यह खबर, साक्षात्कार चेनल को दिया ताकि अच्छे कार्य के प्रति भावना का विकास हो सके |

चेनल पर वह न्यूज नहीं आई | विपरीत इसके उसे चटपटी खबर न देने के एवज में मेमो पकड़ा दिया गया |

5 comments:

  1. अनिरुद्ध16 जून 2011 को 10:59 am

    मीडिया का यही चरित्र है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहानी मीडिया से जुडे एक एक व्यक्ति को पढनी चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. sabhi ki pratikriyaen mili , padkar accha laga . vihesh thanks meri laghukathayen padne v pasand karne ke liye . ---- shobha rastogi shobha

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget