प्यारे बच्चों,
"बाल-शिल्पी" पर आज आपके डॉ. मो. अरशद खान अंकल आपको "फुलवारी" के अंतर्गत अखिलेश श्रीवास्तव 'चमन’ अंकल की कविता "सूरज-सा चमकें" पढवा रहे हैं। तो आनंद उठाईये इस अंक का और अपनी टिप्पणी से हमें बतायें कि यह अंक आपको कैसा लगा।

- साहित्य शिल्पी
====================

सुमन बनें हम हर क्यारी के बन उपवन महकें,
चलो दोस्त हम सूरज बनकर धरती पर चमकें।


एक धरा है, एक गगन है,
सबकी खातिर एक पवन है,
फिर क्यों बंटा-बंटा-सा मन है ?
आओ स्नेह कलश बनकर हम हर उर में छलकें
चलो दोस्त हम सूरज बनकर धरती पर चमकें।


कहीं खो गया है अपनापन,
सबके होठों पर सूनापन,
चुप्पी साधे हर घर आंगन।
बुलबुल, कोयल, मैना बनकर डाल-डाल चहकें
चलो दोस्त हम सूरज बनकर धरती पर चमकें।


नयन किसी के रहें न गीले,
हंसते-हंसते जीवन जी लें,
अमृत-विष मिलजुलकर पी लें।
हर मुशिकल से तपकर निकलें कुंदन बन दमकें।
चलो दोस्त हम सूरज बनकर धरती पर चमकें।


-----------
अखिलेश श्रीवास्तव 'चमन, लखनऊ,(0प्र0)

3 comments:

  1. कितना सुन्दर गीत


    नयन किसी के रहें न गीले,
    हंसते-हंसते जीवन जी लें,
    अमृत-विष मिलजुलकर पी लें।
    हर मुशिकल से तपकर निकलें कुंदन बन दमकें।
    चलो दोस्त हम सूरज बनकर धरती पर चमकें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यदि बाल गीतों कोस्वर के साथ भी प्रस्तुत किया जाये तो आनंद दुगुना हो जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget