कण-कण में जहाँ शंकर बसते,बूँद-बूँद मे गंगा,
जिसकी गौरव गाथा गाता,विश्व विजयी तिरंगा|

सागर जिसके चरण पखारे,और मुकुट हिमालय,
जन-जन में मानवता बसती,हर मन निर्मल,चंगा|

वृक्ष धरा के आभूषण,और रज जहाँ कि चन्दन,
बच्चा-बच्चा राम-कृष्ण सा,बहती ज्ञान कि गंगा|

विश्व को दिशा दिखाती,आज भी वेद ऋचाएं,
कर्मयोग प्रधान बना,गीता का सन्देश है चंगा|

'अहिंसा तथा शांति' मंत्र, जहाँ धर्म के मार्ग,
त्याग कि पराकाष्ठा होती, 'महावीर'सा नंगा|

भूत-प्रेत और अंध विश्वाश का,देश बताते पश्छिम वाले,
फिर भी हम है विश्व गुरु,अध्यातम सन्देश है चंगा|

4 comments:

  1. देशभक्ति की भावना से भरा गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आमतौर पर देश-भक्ति पूर्ण गीत स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस के आस पास ही लोगों को याद आते हैं. अत: इस समय यह पढ़ कर अच्छा लगा.
    भारत का अतीत निस्संदेह गौरवपूर्ण है, परंतु एक बात जब बार-बार दोहराई जाये तो वह अपना प्रभाव खोने लगती है. हमारे वर्तमान में भी कुछ अच्छी चीजें हैं, उन के विषय में भी कुछ कहा जाता तो शायद बेहतर रहता. प्रस्तुतिकरण के स्तर पर भी कोई नवीनता नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. गीत अच्छा है किंतु और बेहतर हो सकता था।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget