क्यूं उठता है धुंए का गुबार
क्यूं थमती है जीवन की रफ्तार
क्यूं होता है यह बार-बार
कौन है इसका गुनाहगार

कभी लश्कर, कभी अजमल
मौत का खौफ यहां हरपल
सीने में दबे हैं जख्म कई
हौसले का सरताज मुंबई

आतंकियों की नयी जमात
न देखे मजहब, न देखे जात
क्या जाने वो किसी का दर्द
वो तो है बस दहशतगर्द

सारी उम्मीदें हैं लहूलुहान
सस्ती यहां इन्सानी जान
सब्र का न लो यूं इम्तेहां
बंद हो अब अनर्गल बयां

सुन ओ! बेफ्रिक सियासतदां
एक बेबस शहर की दास्तां
हर कोशिश लगती नाकाम
फिर भी सब करते सलाम
--------------------

हिमकर श्याम
5, टैगोर हिल रोड
मोराबादी, रांचीः 8

11 comments:

  1. सुन ओ! बेफ्रिक सियासतदां
    एक बेबस शहर की दास्तां
    हर कोशिश लगती नाकाम
    फिर भी सब करते सलाम

    पता नहीं कब यह सब बंद होगा?

    उत्तर देंहटाएं
  2. आतंकवाद की भर्त्सना होनी चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कसाब की मेहमान नवाजी में एक साल में ३१ करोड़ खर्च किये जाते हैं, जबकि मुंबई हादसे में मारे गए लोगों को पांच लाख देने की घोषणा की जाती है. यही कीमत रह गयी है हमारे देश में एक आम आदमी की जान की.
    मुंबई की पीड़ा व्यक्त करती यह कविता वाकई में हमें सोचने को मजबूर करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बंद हो अब अनर्गल बयां !!!!!!!!!!!

    अगर यह बंद हो गया तो सियासतदांनो की दुकान कैसे चलेगी ????

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर शाख पे उल्लू बैठे हैं, अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा?????

    उत्तर देंहटाएं
  6. कौन है इसका गुनाहगार .... ?
    अच्छी कविता बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. सरल शब्दों और सहज भावों के साथ समसामयिक विषय का चयन इस कविता की खासियत है।
    मुंबई के मर्म का सटीक विश्लेषण के लिए बधाई!
    प्रेमशंकर

    उत्तर देंहटाएं
  8. अमूल्य प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार. उम्मीद है यह स्नेह आगे भी मिलता रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. :लुटेरों की ये जन्नत है
    जिसे दिल्ली समझते हैं,"

    दम घोटने वाला माहौल है अभी देश में. कांग्रेस अभी पुरे खुमार पे है, क्यूँ की कोई विरोधी दल अभी मजबूत है भी नहीं. और ये तो हमेशा से ही होते आया है, अंग्रजों ने तो कांग्रेस को तो मौज मस्ती का क्लब घोषित कर चुके थे.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget