वह अनुबंध ही तो था जिसके तहत
द्रौपदी जुड़ गयी थी अर्जुन से
जिसके तहत उसकी निष्ठा बंट गयी
पांच टुकड़ों में, अनचाहे ही,

वह अनुबंध ही था जिसने जोड़ दिया
राम को सीता से,
जिसके चलते समा गयी
धरती के गर्भ में जनकसुता.

अनुबंध- जिसने कर दिया सुमुखी गांधारी को
अंधे धृतराष्ट्र के हवाले,
तब जन्मी
आँखों वाले अंधों की संतति.

अनुबंध- जिसने लोभ के रहते,
चढ़ा दिया
कितनी ही अबलाओं को-
दहेज़ की बलिवेदी पर

अनुबंध- जिसमे बन जाते हैं जोड़े
बिन ब्याहे ही,
जिसने देह का व्यापार किया
आत्मा के नाम पर

=====================================


कवियित्री विनीता शुक्ला साहित्यिक संस्था "अभिव्यक्ति" लखनऊ से सम्बद्ध हैं। आप मूल रूप से कहानीकार हैं । आपका कथा संकलन -"अपने अपने मरुस्थल" प्रकाशित हुआ है जिसके लिये आपको उत्तर प्रदेश  हिन्दी संस्थान के "पं. बद्रीप्रसाद शिंग्लू स्मृति सम्मान पुरस्कार प्रदान किया गया है। आपनी रचनायें अनेकों पत्रिकाओं तथा ई-पत्रिकाओं में प्रस्तुत की जाती रही हैं। 

9 comments:

  1. उच्च स्तरीय रचना...सब कुछ कह दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनुबंध- जिसने कर दिया सुमुखी गांधारी को
    अंधे धृतराष्ट्र के हवाले,
    तब जन्मी
    आँखों वाले अंधों की संतति.

    बहुत अच्छी कविता---बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या कहने अनुबंध के
    हरा हो गया मन

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनुबंध- जिसने लोभ के रहते,
    चढ़ा दिया
    कितनी ही अबलाओं को-
    दहेज़ की बलिवेदी पर
    bahut hi sunder kavita
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. APKI KAVITA SE JAISE MERE HRIDYA KA BHI ANUBANDH HO GAYA HAI. APKO BADHAI
    AJAY AGYAT

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनुबंध-जसमे बन जाते ह जोड़े बन याहे ह, जसने देह का यापार कया आमा के नाम पर
    Sach ka aaina hai yeh panktiyan..
    Badhai swikar kare

    उत्तर देंहटाएं
  7. विनीता शुक्ला10 फ़रवरी 2012 को 8:51 am

    धन्यवाद आप सबको, रचना को पसंद करने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget