बुलबुलों की मधुर पुकार नहीं
वो चमन क्या जहाँ बहार नहीं

क्या भरोसा करेगा औरों पर
जिसको खुद पे भी एतबार नहीं

जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
दिल में ही जब कहीं निखार नहीं

इतना भी खौफ किसलिए उससे
दुःख भरी ज़िन्दगी कटार नहीं

पर्बतों पे भी ऐसा आलम है
रोज़ बहती वहाँ बयार नहीं

आदमी वो है या कि पत्थर है
उसको बच्चों से भी दुलार नहीं

शुक्र रब का कि अब मेरे सर पर
दोस्तों का कोई उधार नहीं
------------

22 comments:

  1. आदमी वो है या कि पत्थर है
    उसको बच्चों से भी दुलार नहीं
    As usual very impressive.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मतले से आखिरी शेर तक नायाब ग़ज़ल| बधाई स्वीकार करें श्रीमान|

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं

    ज़िन्दगी की हकीकतें बयाँ करती बेहद उम्दा गज़ल्।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कथ्य के नएपन और प्रस्तुति की सहजता के चलते प्राण शर्मा जी की यह ग़ज़ल असरदार और क़ाबिले-तारीफ़ है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं ..

    बहुत खूब ... लाजवाब गज़ल है .. सच ही कहा है अगर इंसान अंदर से खुश होता है तो खुशी चेहरे पे भी नज़र आती है ... दार्शनिकता लिए हैं शेर इस गज़ल के ... नमन है प्राण साहब की लेखनी को ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय प्राण शर्मा जी की इतनी ख़ूबसूरत ग़ज़ल पढ़ने का अवसर प्रदान करने के लिए साहित्य शिल्पी का आभार !

    मत्ले से आख़िरी शे'र तक ( प्राणजी मक़्ते का शे'र नहीं लिखा करते … जहां तक मेरा ख़याल है । )ग़ज़ल अपने सम्मोहन में बांधे रखने वाली है …

    इन अश्'आर ने तो ज़ादू ही कर दिया …
    क्या भरोसा करेगा औरों पर
    जिसको खुद पे भी एतबार नहीं

    जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं

    शुक्र रब का कि अब मेरे सर पर
    दोस्तों का कोई उधार नहीं


    आशा है , उत्कृष्ट रचनाएं यहां पढ़ने को मिलती रहेंगी ।

    आदरणीय प्राणजी के लिए हृदय से
    शुभकामनाएं - मंगलकामनाएं हैं

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  7. सबसे पहले तो साहित्य शिल्पी का धन्यवाद कि इतनी अच्छी गज़ल से हमें रूबरू करवाया .
    प्राण साहेब की जितनी भी तारीफ किया जाए , शब्द कम पढते है . उनकी गज़ले सिर्फ गजले ही नहीं , बल्कि जिंदगी का आईना होते है . कुछ शेर तो ऐसे बन पड़े है कि क्या कह जाए ..जैसे :

    क्या भरोसा करेगा औरों पर
    जिसको खुद पे भी एतबार नहीं
    और :
    जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं
    और :
    पर्बतों पे भी ऐसा आलम है
    रोज़ बहती वहाँ बयार नहीं
    और :
    आदमी वो है या कि पत्थर है
    उसको बच्चों से भी दुलार नहीं
    और अंत में :
    शुक्र रब का कि अब मेरे सर पर
    दोस्तों का कोई उधार नहीं

    ये वो शेर है , जो कि इंसानियत का एक बदला हुआ चेहरा हमारे सामने रखते है .
    प्राण साहेब को और उनकी गज़ल को शत शत प्रणाम .

    विजय सप्पत्ति

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह वाह प्राण जी, आजकल ख़ूब लिख रहे हैं, ख़ुदा करे कि आपकी क़लम कभी न रुके (ज़ोरे-क़लम और ज़ियादा), दुआगो, दिव्या माथुर

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं

    वाह...वाह...वाह....किस ख़ूबसूरती से आज के हालात का जिक्र किया है गुरुदेव ने...सुभान अल्लाह...प्राण साहब की ग़ज़लें ज़िन्दगी जीने का पाठ पढ़ातीं हैं...जैसे सरल वो खुद हैं वैसी ही उनकी ग़ज़लें भी हैं...इश्वर उन्हें हमेशा स्वस्थ रखे...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं

    वाह...वाह...वाह....किस ख़ूबसूरती से आज के हालात का जिक्र किया है गुरुदेव ने...सुभान अल्लाह...प्राण साहब की ग़ज़लें ज़िन्दगी जीने का पाठ पढ़ातीं हैं...जैसे सरल वो खुद हैं वैसी ही उनकी ग़ज़लें भी हैं...इश्वर उन्हें हमेशा स्वस्थ रखे...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  11. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं

    वाह...वाह...वाह....किस ख़ूबसूरती से आज के हालात का जिक्र किया है गुरुदेव ने...सुभान अल्लाह...प्राण साहब की ग़ज़लें ज़िन्दगी जीने का पाठ पढ़ातीं हैं...जैसे सरल वो खुद हैं वैसी ही उनकी ग़ज़लें भी हैं...इश्वर उन्हें हमेशा स्वस्थ रखे...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्राण भाई साहब,
    बहुत बढ़िया लिखी है
    क्या भरोसा करेगा औरों पर
    जिसको खुद पे भी एतबार नहीं
    और :
    जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं
    क्या शे'र कहें हैं ... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. बस यही कहूँगा कि:
    लफ़्ज़, अंदाज़ औ बयॉं ऐसा
    गर मिला है तो बार-बार नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. विबिन्न मनःस्थिति में ज़िन्दगी के कई रूप इस गज़ल के केन्द्र में है। बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  15. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं
    bahut khoob...hameshaa ki tarah ghazal-shiromani praan ji ki yah gghazal bhi dil ko chhoo gayee..

    उत्तर देंहटाएं
  16. यह पंक्तियां तो जीवन प्राण हैं
    और प्राण ही तो जीवन आधार हैं


    क्या भरोसा करेगा औरों पर
    जिसको खुद पे भी एतबार नहीं

    बिना भरोसे काहे के भरे भगवान
    वहां पर तो हैं सिर्फ रोसे ही रोने।

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्राण जी की शायरी पर इतना ही कहूंगी कि उन्हें जितना पढा जाये कम है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. जिस्म निखरे तो किस तरह निखरे
    दिल में ही जब कहीं निखार नहीं
    bahut khub
    aapki gazal ka ek ek sher khubsurat hai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुंदर गज़ल । हर शेर ज़िंदगी से जुड़ा हुआ ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. kyaa kahen. superb !

    Avaneesh S Tiwari

    Mumbai

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget