ऊपरी हवा [लघुकथा-१]

'सुना है ,तेरा बेटा बीमार है !'

'हाँ , बहन ! महीना हो गया | बेहोशी में भी कुछ-कुछ बोलता रहता है |'

'किसी सयाने को दिखा | ऊपर की हवा तो नहीं ..?'

'मरघट वाले बाबा का इलाज चल रहा है |झाड़-फूंक हो रही है | कहते है - पड़ोसन ने कुछ करा दिया है '|

'नास हो उस कमबख्त का | बाबा क्या कहते है ?'

'कह रहे थे महीने भर में ठीक हो जायेगा |'

अगला महीना बीतने से पहले जवान लड़का बीत गया |

=====

बुरी नज़र [ लघुकथा-२]

'बधाई हो ठकुराइन ,पोता हुआ है |'

'हाँ, हाँ, आओ चौधराईन ! अरे ! ये क्या ? दरवाजे पे भिखारी खड़ा है ? हटा इसे | छोरे को बुरी नज़र लग जाएगी |'

चौधराईन छोरे को लेकर चौक में जाने लगी | एकाएक उनका पैर फिसला |पोता हाथ से छूटा | अचानक दरवाजे पर खड़े भिखारी ने दौड़कर अपने गंदे हाथों में सम्भाल लिया | पर इस उठा-पटक में वह अपने दायें पैर की हड्डी तुड़ा बैठा|

=====
लेखिका परिचय


नाम-शोभा रस्तोगी शोभा
शिक्षा - एम. ए. [अंग्रेजी-हिंदी ], बी. एड. , शिक्षा विशारद, संगीत प्रभाकर [ तबला ]
जन्म - 26- अक्तूबर 1968 , अलीगढ [ उ. प्र. ]
सम्प्रति - सरकारी विद्यालय दिल्ली में अध्यापिका
पता - RZ-D.-- 208, B, डी.डी.ए. पार्क रोड, राज नगर - || पालम कालोनी, नई दिल्ली - 77.

5 comments:

  1. अंधविश्वास और घिसी पिटी मान्यताओं को अब समाप्त हो जाना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी लघुकथायें---बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. व्यवहारिक है और साफ संदेश देने वाली लघुकथायें हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. aap sabhi ko meri laghukathayen pasand aaee, shukriya . -- shobha rastogi shobha

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget