तय हुआ कि शहर को आधुनिक बनाया जाए और लोगों को दकियानूसी । पूरी ताकत से प्रयास किये जाएं तो दोनों लक्ष्य एक साथ हॉसिल किये जा सकते हैं । इसीलिये राजनीति को विज्ञान मानने के बावजूद कला भी कहा जाता हैं ।  राजनीति में आजकल बहुत कुछ करना पड़ता है , यहां तक कि विकास भी । विकास में सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि इसमें आगे की ओर देखना और बढ़ना पड़ता है जबकि राजनीति का असली मजा पीछे जाने में है । जो आगे जाने की लत पाले हुए हैं उन्हें नहीं पता कि पीछे शानदार परंपराएं है , रामराज्य है । राम की राजनीति राज्य की यानी सत्ता की राजनीति है। असली विकास पीछे लौटने में है , क्योंकि पीछे स्वर्ग है और आगे नरक । लेकिन कुछ हैं जो न खुद समझते हैं और न ही किसी और को समझने देते हैं । वैसे ऐसों की परवाह भी किसे है । लेकिन लोकतंत्र में सबसे बड़ी बुराई यह है कि हर पांच साल में चुनाव होते हैं । जनता में किसीने एक बार विकास का भूत चढ़ा दिया तो आसानी से उतरता नहीं । इधर टीवी-सिनेमा ने लोगों के दिमाग खराब कर रखे हैं । जो देखते हैं वही करना चाहते हैं । समाज में अपराध और विकास की भावना इसीलिये बढ़ रही है । हम तो दोनों के खिलाफ हैं लेकिन मजबूरी है , कार्यकर्ताओं का ख्याल तो रखना ही पड़ता है । जनता अगर यज्ञ-हवन और धर्म-धन्धे से सध जाए तो जरूरत ही क्या है मगजमारी करने की ! अरे भई ‘‘ जाही बिधि राखै राम, ताही बिधि रहिये ...’’ ।

लेकिन ओखली में सिर दिया तो मूसलबाजों से क्या डरना । निन्दाजीवी शहर की एक नदी के नाम पर रो रहे हैं !! एक नदी थी , नौ लाख पेड़ थे , हरियाली इतनी कि स्वर्ग का भ्रम हो , शुद्ध हवा , दिन में परिन्दे रात में जुगनू , शान्ति-सौहार्द ....... ! क्या नहीं था ?  लेकिन देखिये , जहां इतना सब हो वहां विकास करना मामूली बात नहीं है। पेड़ कटवाने में ही तीन साल लग गए, फिर भी काम अभी पूरा नहीं हुआ । रहा नदी का सवाल तो भाइयों समय बदल रहा है और जरूरत भी । शहर को नदी से ज्यादा ड्रेनेज की आवश्यकता है। वैसे हमने कुछ नहीं किया । छोटे से शहर में तीस लाख की विशाल जनसंख्या हर सुबह जो बहाती है उसे देख कर नदी बेचारी के प्राण अपने आप सूख गए । लेकिन जो होता है अच्छा ही होता है । सिधार चुकी नदी अपने पीछे तैरने-डूबने की बहुत सारी यादें और बहुमूल्य जमीन छोड़ गई है । यादें बूढों के साथ चलीं जाएंगी और जमीन का उपयोग , यानी व्यावसायिक सदुपयोग हम कर लेंगे  । जल्द ही हम सबको बता देंगे कि नदी के होने से जमीन का होना ज्यादा कीमती है । आधुनिक और विकसित समाज में कीमत सब कुछ है । सभ्य समाज किमत मिलने पर सभ्यता छोड़ने पर तत्पर रहता है ।

हमने देखा कि सरकारी स्कूलों के पास बहुत जमीनें थीं । उस पर बच्चे फुटबाल-हॉकी जैसे खेल खेला करते थे और प्रायः जख्मी होते थे । पढ़ाई का कीमती समय खेलों में बरबाद हुआ करता था । लेकिन दूरदृष्टि और पक्के इरादे से क्या नहीं हो सकता है । सरकारी स्कूल हमारी शहीद नदी की तरह धीरे धीरे सूखते चले गए और हमारे लिये कीमती जमीनो का उपहार देते गए । बदले में हमने प्रायवेट स्कूल गली गली में खुलवा दिये । दो-तीन कमरों वाले इन स्कूलों में देश का भविष्य ‘‘ जानी जानी  यस पापा .... ’’ गा रहा है !! खेल का मैदान, पुस्तकालय , शौचालय , खिड़की और प्रकाश युक्त कमरे हम केवल कागज पर ही देखते हैं । इससे उनका काम भी चलता है  और हमारा भी ।

यही हाल सड़कों को लेकर है , जिसके मन में जो आता है बक देता है । लेकिन देखिये क्या थीं और क्या हो गई सड़कें । शहर कारों से अंटा पड़ रहा है , लोग मजबूरी में कारें खरीद रहे हैं । बीस साल पहले आदमी कर्ज लेने के  लिये बैंकों में हाथ बांधे खड़ा, घिघियाता रहता था । अब बैंक वाले किसी भी रास्ता चलते आदमी के आगे हाथ बांधे घिघियाते रहते हैं कि कर्ज ले लो मांई-बाप !! लोग दुत्तकार कहते हैं कि नहीं चाहिये पर वे पुचकार कर टिका ही देते हैं । ऐसे में ऐरे-गैरे भी कार नहीं लें तो क्या करें ? जो भी हो , कार वाले भाइयों के लिये सड़के चौड़ी होना तो होना ।  यही क्यों , बारातें , रैली , जुलूस , पुतला दहन , प्रदर्शन वगैरह भी जरूरी हैं । लोकतंत्र में किसी को कह कर देखिये कि भाई बारात मत निकालो , ट्रैफिक पर रहम करो । आपको तुरंत ही व्यक्तिगत स्वतंत्रता का जायका चख कर अस्पताल प्रस्थान करना पड़ सकता है । जाओगे क्या ?  नहीं ना ?
----------------------------------------------------

5 comments:

  1. मिसालों में गहरे प्रश्न उठाये गये हैं। अच्छा व्यंग्य..बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. विकास के नाम हो हो रहे गोरखधंधों की अच्छी टांग खींची है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बात तो सोलह आने सही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक नदी थी, नौ लाख पेड़ थे, हरियाली इतनी कि स्वर्ग का भ्रम हो, शुद्ध हवा, दिन में परिन्दे रात में जुगनू, शान्ति-सौहार्द ...! क्या नहीं था? लेकिन देखिये, जहां इतना सब हो वहां विकास करना मामूली बात नहीं है। पेड़ कटवाने में ही तीन साल लग गए, फिर भी काम अभी पूरा नहीं हुआ। रहा नदी का सवाल तो भाइयों समय बदल रहा है और जरूरत भी। शहर को नदी से ज्यादा ड्रेनेज की आवश्यकता है।
    सच कह रहे हैं ज़नाब.....
    अच्छा व्यंग्य...बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget