बूढ़े ने शीशम के पेड़ के सहारे ब्लैकबॉर्ड टिकाया और जेब में से मोटे काँच वाली ऐनक निकालकर आँखों पर चढ़ा ली। - अ से....?

बूढ़े ने तीन का अंक बनाया, उसके बीच से एक लेटा हुआ डंडा खींचा और उसके दूसरी ओर एक खड़ा हुआ डंडा खींचा। फिर सामने टाट-पट्टी बिछाकर बैठे बच्चों की ओर देखने लगा।

- अर्जुन...
एक बच्चा बोला।

- अकबर...
दूसरा बोला।

- अरहर की दाल।
एक और बोला।

- अनार...
बूढ़े ने कहा और घबराकर मुँह फेर लिया। फिर उसने ‘आ’ लिखा।
- आ से?

- आग...
पहला बच्चा बोला।

- आग...., - आग...., - आग....
तीन और बच्चों ने भी पुष्टि की।

तभी कहीं से एक जवान लड़का आ गया।
- खाना खा लो।

बूढ़े ने बच्चों से पूछा- खाना खाओगे?

- नहीं...
- नहीं...
- नहीं...
- माँ ने मना किया है।

बूढ़ा डर गया। कुछ दिनों से वह छोटी छोटी बिना बात की बातों पर डरने लगा था। उसने घबराकर ऐनक उतार ली।

- बच्चों, आज का अंतिम प्रश्न। हमारा देश कौनसा है?
बच्चे चुप रहे।

- बूढ़े का देश कौनसा है?
एक बच्चे ने अपने पास बैठे बच्चे के कान में पूछा।

- बच्चों, कल ही मैंने बताया था। कौनसा है हमारा देश?
बच्चे चुप रहे।

- ठंडा हो जाएगा...
जवान लड़के ने कहा तो बूढ़ा निराश होकर चलने लगा। बच्चे अपनी टाट पट्टियाँ उठाकर भाग लिए।

- बूढ़े का देश कौनसा है?
तीसरे बच्चे ने अपना सामान समेटते हुए चौथे बच्चे के कान में कहा।

- कोई दूसरा है...
चौथे बच्चे ने उत्तर दिया।

- कोई दूसरा है...., - कोई दूसरा है...
सब बच्चे भागते हुए अपने-अपने कानों में फुसफुसा रहे थे ।
==============================

6 comments:

  1. विचारधाराओं की खींचतान कैसे नसों में घुस गयी है यह लघुकथा दिखाती है। बधाई सूरज जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. - बूढ़े का देश कौनसा है?
    तीसरे बच्चे ने अपना सामान समेटते हुए चौथे बच्चे के कान में कहा।

    - कोई दूसरा है...
    चौथे बच्चे ने उत्तर दिया।

    - कोई दूसरा है...., - कोई दूसरा है...
    सब बच्चे भागते हुए अपने-अपने कानों में फुसफुसा रहे थे ।

    गज़ब का व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  3. - कोई दूसरा है...., - कोई दूसरा है...
    सब बच्चे भागते हुए अपने-अपने कानों में फुसफुसा रहे थे ।

    A Truth. A True story.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम लोग ट्कडे टुकडे में इस्ई लिये बटते जा रहे हैं क्योंकि हम भी चाहते हैं कि हमारे बच्चे वही सोचे6 जो हम खुद सोचते हैं। हम पीढों को एसा ही जहर दे रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. विचारों की संकीर्णता पर बार बार पढी जाने योग्य लघुकथा।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget