शहरीकरण का भूत [कविता] - ज्योतिप्रकाश सिंह


शहरीकरण के भूत ने
मंहगाई की भूख ने
सरकार की लूट ने
सांचा बदल दिया
हँसते-डोलते गाँव का ढांचा बदल दिया।

आह! वो उल्लास के दिन
तंगी में भी बेहद उन्माद के दिन
मिलना-मिलाना
भाईचारा सद्‌भाव का रस
कठिन परिश्रम, शांति और प्रेम में
डूबा रहता था गाँव बरबस

अब याद आता है
रह-रह के वो बचपन
जब आस पड़ोस से निकलता था
चुल्हे का धुंआ
मां देती थी उपला, और कहती
चाची से जरा सा आग लेके आ।
पड़ोस की दादी भी आती,
कहती
दुल्हन जरा सा देना धनिया।

तब पूरा गाँव एक परिवार होता था
अब भी कुछ है,
पर पहले अलग ही रास होता था
गाँव मैं बधुत्व था,
आपसी सहयोग का वास होता था।

नौजवान भागे शहर कमाने को
पेट में दाना, घर मैं सुख
ऐसा धन लाने को
कभी कहा जाता रहा होगा
भारत गाँवों को देश
अब सरकार ने बदल दिया यह अभिलेख
संयुक्‍त परिवार का क्या कहे भाई
अब तो परदेशी हो गया माँ का सपूत
वाह रे शहरीकरण का भूत॥

Tags: ,

1 Responses to “शहरीकरण का भूत [कविता] - ज्योतिप्रकाश सिंह”

अभिषेक सागर ने कहा…
29 सितंबर 2011 को 3:47 pm

अच्छी कविता...बधाई


एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~~~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...
Blogger द्वारा संचालित!
Designed by SpicyTricks and Modified for SahityaShilpi.com by Ajay Yadav