1
बस्तर मचो
सरन आया बूबा
दंतेसरी जै

2
मांडी टेकून
डंडा सरन लागें
बला देवता


सहरे लोग
बलतो आरू करतो
काय बलासे

4
लूगा घेनुक
सीखली एदाय रे
नोनी बेलोसा
5
खमोरी होली
एदाय दसराहा
सरकार चो

6
दंतेसरी जै
बुतली काय साद
दसराहा चो

7
काय सान्गेंदें
टोंड़े हाड़ा नी आय
इथा चो लोग

8
माटी चो देहें
मिसुन जाऊ आय
माटी चे ठाने

9
मनुख मारा
मनुख ले आगर
केभय नांई

10
मनुख चेते
जाले काय काजे
मनुख मारा

4 comments:

  1. hindi ke pathko ke liye anuvad bhi hona chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सकुन्तला जी हल्बी मै हाईकू पड अच्च्हा लगा बधाइ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रिय पाठकों , नमस्कार
    आपने हल्बी हाइकु पसंद किया इसके लिए धन्यवाद,
    भविष्य में मैं अनुवाद सहित या कुछ कठिन शब्दों के अर्थ साथ में लिखकर दूंगी .

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget