वह तेरी हंसी थी, वह कैसा समां था
मुअत्तर तेरी ज़ुल्फ़ से गुलसितां था,

हिनाई सफ़र था, चमन नग़मा ज़न था
मेरी जिंदगी में तू रूह ऐ रवां था;

ना जाने है क्यों, मुझ से तू बदगुमाँ अब
ये कैसा समां है वो कैसा समां था;

न था दरम्यान फासला कोई अपने
नहीं कुछ निहां जो भी था वह अयाँ था

सताती है अब मुझ को वह याद ए माजी
हसीन तू भी था और मैं भी जवान था

अब आया है करने को अहवाल पुरसी
अब इतने दिनों यह बता तू कहाँ था .

हयात आज है जिंदगी तल्ख़ अपनी
वह दिन याद हैं जब मेरी जान ए जान था

3 comments:

  1. चेतन रामकिशन ‎2 अक्तूबर 2011 को 1:14 pm

    वाह !हयात जी, एहसासों से सजी रचना!
    हयात आज है जिंदगी तल्ख़ अपनी
    वह दिन याद हैं जब मेरी जान ए जान था..आपकी एक और बेहतरीन रचना! "स्मृति कब मृत होती हैं रहे भले न देह!आपके अनमोल लेखन को नमन!चेतन रामकिशन. ‎

    उत्तर देंहटाएं
  2. ‎.. आज इस ग़ज़ल को पढ़ने का मज़ा कुछ और ही है Sir...हरबार.. बहुत प्यार से सवारां है आपने इसे.. और आपकी इस खूबसूरत पेशकश के साथ जो ''राही मासूम रज़ा'' साहब के भी अशहार आपने जोड़े है.. उसका अलग से शुक्रिया!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget