वसुधा अपनी पड़ौसन मिसेज रेड्डी से बात कर रही थी तभी उनका बेटा पप्पू भागता हुआ आया --"मम्मी आपके किचन में एक छिपकली घुस आई है,भगा दूँ वरना कहीं खाने में न गिर जाये ।'

"छिपकली कहाँ से आ गई.. सब खिड़की दरवाजों पर तो जाली लगी है ।'

"जरूर आपकी काम वाली ने पोछा लगाते समय दरवाजा खुला छोड़ दिया होगा ।..लाओ आप झाड़ू दो उस से भगा देता हूँ ।'

"अरे बेटा छिपकली ही तो है भाग जायेगी अपने आप...वो तो सभी घरों में रहती हैं ,हमारे यहाँ भी हैं।' मिसेज रेड्डी ने कहा

"पर आन्टी हमारे घर में तो एक भी नहीं है,कभी आ जाती है तो उसे भगा देते हैं।..मम्मी झाड़ू दो न ।'

"बेटा संभाल कर निकालना कहीं मर न जाए..वरना पाप लगेगा ।'

"आप पाप पुण्य मानती हैं आन्टी ?'

"हाँ, पर वो तो सभी मानते हैं ।'

"एक बात पूछूँ आन्टी ?'

"हाँ पूछो ।'

"आन्टी,मेरे हाथ से छिपकली मर जाने पर मुझे पाप लगेगा पर कुछ दिन पहले पूजा में आपने बकरी कटवाई थी तब आपको पाप नहीं लगा था ?'

3 comments:

  1. Bura jo dhakn mai chala,bura na milya koi.
    Jo man mai khoja apno,mujsa bura na koi.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है...पाप पुण्य की परिभाषा कौन देगा..

    उत्तर देंहटाएं
  3. aaj achanak yahan najar gai to paya yahan meri laghu katha hai ,asal me prakashan ki suchana ka email nahi aaya tha .
    tippani ke liye benami ji aur Abhishek ji ko thanks
    pavitra
    http://laghu-katha.blosspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget