आओ धूप में इस बार स्वागत है रितु रंजन का। उनकी कविताओं में एक अजीब सी बेचैनी है, ढेर सारे सवाल हैं, उम्मीहदें हैं, कचोट है, व्यं ग्य  है और सबसे बड़ी बात, बेहतरी की उम्मी द है। वे निरंतर लिखें और कविता की धार को और पैना करें। 

सफल हो कर तुम दिखलाओ

अड़चने तो आती हैं राह में
आगे बढ़ कर दिखलाओ
गलत राह पर अगर चलोगे
काँटे ही होंगे राहों में
फूल अगर तुमको पाना है
सच्चाई से राह बनाओ
अपनी ही तुम कलम उठाओ
और लिखो अपनी परिभाषा।
भटक गये जो राह कभी तुम
नही संभल फिर पाओगे,
दाग लगी चूनर को तुम
किस दरिया में धो आओगे?
ख्वाब कब्र फिर बन जायेंगे
आँसू बन फिर बह जायेंगे।
जीना क्या पोली उम्मीदें
आँखें खोलो भूलो नींदें.
अंत हरएक मुश्किल का होगा
संदल बन कर तुम दिखलाओ
सफल हो कर तुम दिखलाओ...

फिर मैं ही हूँ

साथी हो तो साथ दो
सुख के साथी तुम, तो दुख का कौन?
हँसी में तुम तो गम में कौन?

मेरे तो तुम्ही सब कुछ
गीता और रामायण भी तुम
अगला जन्म भी तुम
शब्द भी तुम
अर्थ भी तुम
सवाल भी, जवाब भी तुम

भागो, किंतु जाओगे कहाँ
तुम्हारे भीतर की आँखें जो मेरी है
करेंगी पीछा तुम्हारा
भटकते रहोगे तुम
खुशी की चाह में
परबत/दरिया और मरुथल
पर मत भूलो कि कडी धूप में
तुम्हारे लिये पानी की पहली बूँद
फिर मैं ही हूँ।
शून्य में

टूटा है दिल

फेविकोल से चिपका लो
चाहो तो रफू करवा लो
चादर से उसे ढक दो
पर दिखने मत दो..

दरारो में दीमक लग जाते हैं
फिर कोई सुई काम ना आएगी
न ही गोंद कोई
बाहर तेज रोशनी हैं
आँखे रोशनी मे भी हो जाती हैं अंधी
खो जाएगा रिश्ता
या फिर बेमानी हो जाएगा तब
कटघरे में खडे तुम और हम
गुमशुदा रिश्ते पर केवल कीचड उछालेंगे
पीठ के पीछे लोगों की हँसी
और हासिल कुछ भी नहीं
और फिर शून्य में तनहाईयाँ बोते रहेंगे
अपनी लाश ढोते रहेंगे।

समाना नहीं आता।


भाव तो बहुत हैं, सजाना नहीं आता
मोती हैं, हमको माला बनाना नहीं आता।

जीवन है और हम हैं, तनहा हैं, रास्ता है,
ठहरे हुए हैं लेकिन, जाना नहीं आता।

मन मेरा समुन्दर है, भँवरें हैं और लहर है,
खों जायें हमको हममें डुबाना नहीं आता।

मन प्यार भरा मेरा, दुनियाँ भी सिर्फ तुम हो,
घर रेत का है जिसको सजाना नहीं आता।

हम तो रितु वही हैं, बेरंग बुत कि जिसको
रंगो भरी दुनियाँ में समाना नहीं आता।

2 comments:

  1. भाव भी सुन्दर है और आपओ सजाना भी आता है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget