इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है

बुलंदियों का बड़े से बड़ा निशान छुआ
उठाया गोद में माँ ने तब आसमान छुआ

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएं आ गईं
ढाल बनकर सामने माँ की दुआएं आ गईं

जरा-सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाये
दिये से मेरी माँ मेरे लिए काजल बनाती है

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती

ये ऐसा कर्ज है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता
मैं जब तक घर न लौटूं मेरी माँ सजदे में रहती है

17 comments:

  1. इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
    माँ बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है
    सुन्दर क्या कहने!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मा क कहना ही क्या...वो तो ..... बस कहने को शब्द भी कम है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर मन को छुने वाली कविता

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रो.राजेश सिंह भदौरिया14 मई 2012 को 3:24 am

    "किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई,
    मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई...

    हो चाहे जिस इलाके की जुबां बच्चे सब समझते हैं,
    सगी है या सौतेली है माँ बच्चे सब समझते हैं ........

    हवा दुखों की जब आई खिजां की तरह,
    मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह...

    सुख देती हुई माँओं को गिनती नहीं आती ,
    पीपल की घनी छाँव को गिनती नहीं आती.......

    सर-फिरे लोग हमें दुश्मने-जां कहते हैं ,
    हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं...

    समझो कि सिर्फ जिस्म है और जां नहीं रही,
    वो शख्स जो कि ज़िंदा है और माँ नहीं रही...."

    ....................."मुनब्बर राना.."

    उत्तर देंहटाएं
  5. "लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
    बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती"

    "किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई,"
    मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई...
    -नीलम अंशु

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget