देस परदेस में इस बार सोहराब सेपेहरी (7 अक्‍तूबर 1928 21 अप्रैल 1980) की कविता

सोहराब एक चर्चित आधुनिक फारसी कवि और चित्रकार थे। सोहराब फारसी ‘’नव कविता’’ के पांच सर्वाधिक चर्चित एवं अग्रणी हस्‍ताक्षरों में से एक होने के साथ ही साथ ईरान के सर्वप्रमुख आधुनिकतावादी चित्रकार भी माने जाते हैं। उनकी कविताएं मानवतावाद का परचम बुलंद करती हैं। रक्‍त कैंसर के दौर में रची इस कविता में सोहराब के मानवीय सरोकार देखने योग्‍य हैं।

अनुवाद एवं प्रस्‍तुति शाहिद अख्‍तर

चाहत

[I want to be a peddler, peddling through streets]
Shouting: “Dew, dew, dew. I brought dew for you.”
And when the passerby says: “How dark is the night,”
I will gift her the Milky Way
Put a constellation of stars
Around the neck of the legless girl on the bridge
And those who curse
I want to grow flowers on their lips
Wherever there is a wall of separation
I want to tear it down

मैं चाहता हूं लौटना
एक दिन संदेश के साथ
उंड़ेलने तुम्‍हारे रगों में रोशनी
और यह पुकारने: ‘’ऐ लोग जिनकी झोलियां भरी हैं नींद से
मैं लाया हूं तुम्‍हारे लिए लाल सेब
बिल्‍कुल उगते सूरज की तरह। ’’
मैं चाहता हूं लाना
भिखारी के लिए फूल
देना चाहता हूं तोहफे में
कोढ़ से पीडि़त सुंदर महिला को
कान की बालियां
और चाहता हूं उस अंधे के साथ बांटना
पुरबहार बाग का हुस्‍न
मैं चाहता हूं
बन कर फेरी वाला बेचता चलूं यूं ही सड़कों पर
आवाज लगाऊं: ‘’ले लो ले लो शबनम
लाया हूं तुम्‍हारे लिए कतरे शबनम के...’’
और जब कोई पास से गुजरती हुई राहगीर
आह भरे और कहे:
’’उफ्फ कितनी स्‍याह है यह रात’’
तो उसे तोहफे में दे डालूं
सारी की सारी आकाशगंगा
और पुलिया पर बैठी उस अपाहिज लड़की के
गले में प्‍यार से डालूं
सितारों का एक हार

और जो लब कोसते हैं
उन पर उगाना चाहता हूं
बगिया फूलों की
तोड़ डालना चाहता हूं
जहां भी दिखे
दीवारें फुट और बंटवारे की

4 comments:

  1. साहित्य शिल्पी पर विविधता अच्छी लग रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. और जो लब कोसते हैं
    उन पर उगाना चाहता हूं
    बगिया फूलों की
    तोड़ डालना चाहता हूं
    जहां भी दिखे
    दीवारें फुट और बंटवारे की

    प्रस्तुति की बधाई और सूरज जी को धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. गरीबों के लिए चिंता करती आशा की उम्मीद बांधती कविता का सहज अनुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा अनुवाद...अच्छी कविता...बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget