1.

तू किसी को ख़्वाब की मानिंद
अपनी नींदों में रखे ये रज़ा है तेरी
पर यहां किस कंबख्त को नींद आती है ?
अरे, तुझसे भले तो ये अश्क हैं
कभी मुझसे जुदा जो नहीं होते!
टपक ही पड़ते हैं
भरी महफि़ल या तन्हाई में
कहीं भी, कभी भी
बेमौसम बरसात की तरह।

2.

ये हो न सका !
चाहा तो था बहुत
कि दिल में नफ़रत का गुबार
भर जाए तुम्हारे प्रति
पर जहां पहले से ही
मुहब्बत पाँव पसारे बैठी थी
वहाँ चाहकर भी ये हो न सका
मुझे माफ़ कर देना, ऐ दिल !
मैं दिमाग़ की सुन न सका
दिल और दिमाग़ के द्वन्द्व में
ये हो न सका
चाहा तो था बहुत......

3.

कैसा लगता है.......

मुझे पता है कैसा लगता है.......
जब  सब कर रहे होते हैं इंतज़ार
बड़ी बेसब्री से, रविवार की शाम।
कब शाम हो और मेरी आवाज़
लरज़ कर पहुंचे उन तक
हवाओं की मार्फत/
हवाओं पर होकर सवार।
मुझे यह भी पता है
कैसा लगता है जब
शहर में बारिश, आंधी-तूफान का
नियमित दौर जारी हो।
यह भी कि जब आप घंटों तक
अपने सुनने वालों का मनोरंजन करें,
अच्छे-अच्छे नगमें सुनाएं।
कैसा लगता है.....
और फिर घर वापसी के वक्त
मौसम की बेवफाई के कारण
यातायात के साधन भी
धोखा दे जाएं,
विशेषकर शहर की धुरी मेट्रो।
मेट्रो के निकट पार्किंग में धन्नो
इंतज़ार करती रहे और आप
उस तक पहुंच ही न पाएं
धन्नो तक पहुंचने में ही
घड़ी की सुईयां 8 से 10 पर पहुंच जाएं
और उस तक पहुंचते ही
वो मात्र 15 मिनटों में घर पहुंचा दे
रश्क होता है धन्नो की वफ़ा पर
दिल रोता है अन्य साधनों की बेवफ़ाई पर।
                                               
4.

आई बैसाखी

आज फिर आई है बैसाखी
दिन भर चलेगा दौर
एस एम एस, ईमेल, फेस बुक पर
बधाई संदेशों का....
याद हो आती है
इतिहास के पन्नों में दर्ज
एक वह बैसाखी जब
दशमेश ने 1699 में
जाति-पाति का भेद-भाव मिटा
मानवता की रक्षा खातिर
सवा लाख से एक को लड़ा
नींव रची थी खालसा पंथ की
शत-शत नमन, शत-शत वंदन
दशमेश के चरणों में।
क्या सचमुच आज
हर्षोल्लास का दिन है?
ऐसे में जब याद हो आती हो
इतिहास के पन्नों में दर्ज
1919 की वह खूनी बैसाखी
जब जलियांवाले बाग में
हज़ारों बेगुनाह, निरीह, निहत्थी ज़िंदगियां
बर्बरता और क्रूरता का शिकार हुईं।
उन परिजनों तक
कौन पहुंचाएगा संवेदना संदेश
शत-शत नमन, वंदन उनकी अमर शहादत को
जिसने रखी थी नींव इन्क़लाब की।

5.

इस धरा को जन्नत बनाएं हम
इक बूटा मुहब्बत का लगाएं हम
महका कर हर तरफ प्यार की खुशबू
मिटाए नफ़रतों का ज़हरीला प्रदूषण
आओ इस धरा को जन्नत बनाएं हम

न तेरी न मेरी हो सबकी ज़मीं ये
न तेरा न मेरा हो सबका चमन ये
हो खुशनुमा, हरियाला, प्यारा सा वतन ये।
आओ इस धरा को ज़न्नत बनाएं हम
इक बूटा मुहब्बत का लगाएं हम।

18 comments:

  1. नीलम शर्मा अंशु की कविताएं अच्छी लगीं। पहली दो कविताएं विशेषकर…

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुभाष जी, उत्साहवर्धन हेतु बहुत-बहुत शु्क्रिया। ये मेरा प्रथम प्रयास है पिछले दो महीनों में। जिस क्रम में लिखी गईं, उसी क्रम में प्रकाशित हैं।

    -नीलम अंशु।

    उत्तर देंहटाएं
  3. रोशन जी, तह-ए-दिल से शुक्रिया इस हौंसला अफ़ज़ाई के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. excellant, specially no. 2 dil ko choo gayee......... aage bhi intezaar rahega aapki kavitaaon ka.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कमल जी, चंदन जी बहुत-बहुत आभार आपका। दुआ करें कि आपका ये इंतज़ार सार्थक हो और मेरी जिजीविषा बरकरार रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जसवीर बेगमपुरी जी से प्राप्त टिप्पणी -
    Sabhi kavitayen lajwab hai mam....aisi rachnayen apani wall pe bhi sanjhi kia kijye g.... Jasvir Begampuri

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे, तुझसे भले तो ये अश्क हैं
    कभी मुझसे जुदा जो नहीं होते!.... bahut sundar pankti he, neelam ji. jisme agadh sneh aur prem he. samarpan ki bhavna ko svar mila he.prateek sundar he. badhae.
    मुझे माफ़ कर देना, ऐ दिल !
    मैं दिमाग़ की सुन न सका...dil aur dimag k bich ka davnd sundar roop me bahar aaya he....sabhi kavitae sundar bhavo ko nirupit karti he, neelam ji....

    उत्तर देंहटाएं
  9. मथु जी, बहुत-बहुत आभार। बहुत सुंदर विश्लेषण। उत्साहवर्धन हेतु फिर से शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  10. "पर जहां पहले से ही
    मुहब्बत पाँव पसारे बैठी थी
    वहाँ चाहकर भी ये हो न सका
    मुझे माफ़ कर देना, ऐ दिल !"

    चाहा तो था बहुत ......मगर क्यों ?

    जो है वो शुभ है....स्वीकार भाव को चाहो,
    मत कहना कि दिल को समझाया तो था बहुत.

    बोलो ! बोल पाओगे ?
    यही कहोगे न कि बोलना चाहा तो था बहुत.

    शुभम !

    उत्तर देंहटाएं
  11. नीलम,तुम्हारी कवितायें वाक़ई काबिले-तारीफ़ हैं। तुम्हारे अन्दर काव्य-प्रतिभा भी थी,जो अब सामने आई है।तुम्हारी कविताओं में विचारों की सहज अभिव्यक्ति है।
    कलम गतिशील रहे, मेरी शुभकामनायें ……। रावेल पुष्प/कोलकाता

    उत्तर देंहटाएं
  12. रावेल जी, इसी तरह उत्साहवर्धन करते रहें मेरा। तह-ए-दिल से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अभिषेक जी, अशोक जी तह-ए-दिल से आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget