विरासत में 'अरुण प्रकाश' की कहानी 'भासा'
बस पूरी तरह रुकी भी नहीं थी कि राजेश स्टॉप पर कूद पड़ा। उत्तेजना के मारे। वह जल्दी से जल्दी अपने कमरे में पहुंचना चाहता था।
----------
देस परदेस में ‘नाज़िम हिक़मत’ की ‘दिल का दर्द’
अगर मेरे दिल का आधा हिस्सा यहाँ है डाक्टर,
तो चीन में है बाक़ी का आधा 
----------
अरुण प्रकाश हमारे लिए...[श्रद्धांजलि]
वे बेशक हमारे बीच से विदा हो गये हों, लेकिन उनका कथा-साहित्‍य और महत्‍तर लेखन हमारा मार्ग रौशन करता रहेगा।
----------
मैंने पढ़ी किताब में हरिशंकर परसाईपर व्यंग्य यात्राका विशेषांक
हरिशंकर परसाई मेरे प्रिय लेखक हैं। व्यंग्य का क ख और ग जो भी मैंने सीखा है, हरिशंकर परसाई जी और शरद जी जैसे वरिष्ठ व्यंग्यकारों को पढ़ कर.....।  
----------
हेलेन केलर के जीवन की कुछ महत्वपूर्ण घटनाएं
27 जून, 1880 को टुस्कुम्बिया, अलाबामा में जन्म  
1882 में उन्नीस महीने की उम्र में हेलेन की सुनने और देखने की शक्ति जाती रही।
----------
हेलेन केलर की प्रसिद्ध सूक्तियां
दुनिया में सबसे अच्छी और सबसे खूबसूरत चीज़ों को देखा नहीं जा सकता और न ही छूआ जा सकता है। उन्हें तो दिल से महसूस ही किया जा सकता है।  
----------
हेलेन केलर की आत्म कथा का एक अंश
एक अजीब से डर के साथ मैं अपने जीवन की कहानी लिखना शुरू कर रही हूं। अपने बचपन के चारों ओर एक सुनहरे कुहासे की तरह-----। 
----------      
हेलेन केलर  के कुछ शुरुआती पत्र
हेलेन केलर के खत मायने रखते हैं। वे उसकी जि़ंदगी की कहानी को आगे बढ़ाते हैं ----ये उसके विचारों और अभिव्‍यक्ति के विकास की कहानी कहते हैं।
----------
अनिल प्रभा कुमार की कविता 'औरत'
तुम मुझे पहचानते हो
पर देख नहीं सकते
----------
 अशोक गौतम का व्यंग्य 'तो कोतवाल जी कहिन'
सरकार के घर तो दिन रात डाके पड़ते रहते हैं, कोई पूछने वाला नहीं। कोई सारा दिन दफ्तर की कुर्सी पर ऊंघने के बाद------
----------
'शिल्पा' की कहानी 'अनवरत' 

‘‘मां, सान्या अभी तक नहीं आई! मुझे चिंता हो रही है,’’ शुभी टेबल से उठती हुई बोली।
----------
 आओ धूप में शैलजा पाठक की कवितायें
शाम सहमी सी उतर रही है
उसके गहराते ही उड़ जायेंगे परिंदे


0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget