मां बेटा बहुत गरीब थे।
 दो वक्‍त की रोटी मुश्किल से जुटती थी।
 इतना भर हो जाता कि दोनों की थाली में दो दो रोटी आ पाती।
 एक दिन बेटे ने मां से कहा - मां अब मैं बड़ा हो गया हूं।
दो रोटी से पेट नहीं भरता।
 मॉं ने कहा – ठीक है बेटा।
अगले दिन बेटे की थाली में तीन रोटियां थीं और मां की थाली में एक।
 बेटे ने पूछा- ये क्‍या मां, तेरी थाली में एक ही रोटी?
 मां ने जवाब दिया- हां बेटा, अब मैं बूढ़ी हो चली हूं।
तीन रोटी पचा नहीं पाती।

  (अज्ञात)

5 comments:

  1. सूचनाः

    "साहित्य प्रेमी संघ" www.sahityapremisangh.com की आगामी पत्रिका हेतु आपकी इस साहित्यीक प्रविष्टि को चुना गया है।पत्रिका में आपके नाम और तस्वीर के साथ इस रचना को ससम्मान स्थान दिया जायेगा।आप चाहे तो अपना संक्षिप्त परिचय भी भेज दे।यह संदेश बस आपको सूचित करने हेतु है।हमारा कार्य है साहित्य की सुंदरतम रचनाओं को एक जगह संग्रहीत करना।यदि आपको कोई आपति हो तो हमे जरुर बताये।

    भवदीय,

    सम्पादकः
    सत्यम शिवम
    ईमेल:-contact@sahityapremisangh.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. sach mein ise hi maa kehte hain.Kitne tyag kiya hai hamare maa baap ne hamare liye.Lekin hum sayad samajh nhi pate ise.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Maa tu dhanya hai tughe koti koti pranaam.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget