विरासत में प्रेमचन्दकी कहानी ईदगाह
रमज़ान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आई है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभात है। वृक्षों पर कुछ अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है....।
----------
भाषा सेतु में ‘सज्जाद ज़हीर’ की कहानी ‘नींद नहीं आती’
घड-घड-घड-घड, टिक-टिक, चट, टिक-टिक-टिक, चट-चट-चट। गुजर गया ज़माना गले लगाए ए... ए... ऐ... खामोशी और अंधेरा। अंधेरा-अंधेरा। आँख एक पल के बाद खुली। 
----------
देस-परदेस में ‘खलील ज़िब्रान’ की ‘दूसरी भाषा’
मुझे पैदा हुए अभी तीन ही दिन हुए थे और मैं रेशमी झूले में पड़ा अपने आसपास के संसार को बड़ी अचरज भरी निगाहों से देख रहा था।   
----------
‘राकेश बिहारी’ की कहानी ‘किनारे से दूर...’
धूप की सुनहरी रोशनी खुले आसमान की नीली आभा से मिल कर रजतवर्णी होने का आभास दे रही थी। वह बार-बार सामने के दृश्य को कैमरे में उतारने की कोशिश....।  
----------
रक्षाबन्धन पर 'डॉ सरस्वती माथुर' के 'हाइकु'  
रिश्तों की डोरी
भाई की कलाई पे/ बहने  बांधे।
   
----------   
'प्रेम रंजन अनिमेष' की 'गज़लें'
दिल की  किताब में  हूँ बंद  फूल की तरह
दामन से  साफ़ कर मुझे  न धूल की तरह।
----------
विकि आर्यकी लघु कथा 'पाणी दा रंग वेख'
कल तक जून की दोपहर में झुलसाती हुई लू के थपेड़ों में घर से बाहर निकलते हुए सभी सोचा करते थे, मगर अब नहीं। थैंक्स टू मैट्रो।   
----------
मैने पढी किताब में 'रूप सिंह चन्देल' की 'यादों की लकीरें'  
आप बीती सुनाने की ललक आदि मानव में  निश्चय ही रही होगी। बाद में सभ्यता के विकास के साथ अनेक विधाओं में जो विशाल साहित्य अस्तित्व में आया.....।  
----------
'सुभाष नीरव' की लघुकथा 'वाह मिट्टी'
छोनू बेटा, बाहर मिट्टी है, गंदी! गंदे हो जाओगे। घर के अन्दर ही खेलो, आं। जब से सोनू घुटनों के बल रेंगने लगा था, रमा चौकसी करती रहती कि वह बाहर न जाए।
----------
डॉ. प्राजक्ता की कुछ कवितायें
एक नजर
जिसकी कोई कशिश/ अधूरी सी।
----------
इस अंक की ई-पुस्तक – “प्रेमचन्द की पच्चीस कहानियाँ”
ई-पुस्तक प्रेमचन्द की पच्चीस कहानियाँ को डाउनलोड करने के लिये कृपया नीचे दिये गये लिंक पर जायें।  
----------

2 comments:

  1. UCHCH STARIY RACHNAAON KO DEKH KAR KAHNA PADEGA
    KI SAHITYA SHILPI KAA AB KOEE JAWAAB NAHIN HAI .

    उत्तर देंहटाएं
  2. premchand ki 25 Kahanion ko prastut karne ke liye Sahity shilpi ko bahur saree shubhkamanyein.
    Manch ka naya swaroop bahut hi manmohak hai

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget