विरासत में 'कमलेश्वर' की 'कसबे का आदमी'
सुबह पाँच बजे गाड़ी मिली। उसने एक कंपार्टमेंट में अपना बिस्तर लगा दिया। समय पर गाड़ी ने झाँसी छोड़ा और छह बजते-बजते डिब्बे में सुबह की रोशनी….
गोपालदास नीरज से देवेश वशिष्ठ खबरी की बातचीत
इस देश का सबसे बड़ा दुर्भाग्य रहा जातिवाद। और बड़ा दुर्भाग्य ये कि आज के राजनेता फिर से जाति की ही राजनीति कर रहे हैं।
देस परदेस में 'लियो तालस्तॉय' की 'लोग कैसे जीते हैं।
सैमन जूते सी कर अपनी आजीविका चलाता था। पत्नी मत्रिना के साथ वह एक झोपड़ी में रहता था। अपनी आय से वह उदर-पोषण की ही जुगाड़ कर पाता था। 
मीनाक्षी जोशी की कविताएं
बिन सावन की बारिशों में 
भीग रहे है चंद अल्फाज़
भाषा सेतु में वेद राहीकी कहानी मौत 
आँखों की धुँध सघन होती गयी, कुहरा बढ़ता गया और उसने सारे माहौल को लील लिया।
उर्मिला शिरीषकी कहानी अपराधी
अचानक ब्रेक लगने से एक के पीछे एक अनेक गाड़ियाँ रुकती गई। एक झटके के साथ। कुछ गाड़ियाँ एक-दूसरे से टकरायीं तो कुछ टकराते-टकराते बचीं... 
अर्चना पैन्यूली का यात्रा वृतान्त’ – ‘बहुत सारे द्वीप एक शहर
बारह मई़ सन् 2010, समय सुबह साढ़े पांच बजे, कोपनहेगन सेन्ट्रल स्टेशन पर हम एक एक करके इकठ्ठा हो रह़े एर्क्सजे 2000 ट्रेन स्टोक्होम के लिये पकड़ने के लिये।  
मैंने पढी किताब में ‘प्रवासी आवाज़’
इस बात में कोई शक नहीं कि यूरोप या अमेरिका या इंगलैंड का जीवन हर मायने में हमारे देश के जीवन से अलग है।  
बाबा नागार्जुन की कविता "बादल भिगो गये रातों रात"
मानसून उतरा है
जहरी खाल की पहाड़ियों पर
'भगवान पुस्तकालय' पर 'राजीव रंजन प्रसाद' प्रस्तुत एक विमर्श
स्तब्ध और आवाक रह गया हूँ। जितनी उम्मीद से और तैयारी के साथ मैं भागलपुर के प्राचीन भगवान पुस्तकालयपहुँचा था.....।  

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget