हम-तुम इतने उत्थान में हैं
भूमि से परे, आसमान में हैं।

तारे भी उतने क्या होंगे,
दर्द-गम जितने इंसान में हैं।

सोना उगल रही है माटी,
क्योंकि हम सुनहले विहान में हैं।

मोम तो जल जल कर गल जाता,
ठोस जो गुण हैं, पाषाण में हैं।

मौत से जूझ रहे हैं कुछ,
तो कुछ की नज़रें सामान में हैं।

मुर्दों का कमाल तो देखो,
जीवित लोग श्मशान में हैं।

मन में बैठा है कोलाहल,
और हम बैठे सुनसान में हैं।

किसने कितना कैसे चूसा,
प्रश्न ही प्रश्न बियाबन में हैं।

सोचता हूँ, उनका क्या होगा?
मर्द जो अपने ईमान में हैं।
-----

उन्मन हैं मनचीते लोग,
वर्तमान के बीते लोग ।

भीतर-भीतर मर-मर कर,
बाहर-बाहर जीते लोग ।

निराधार ख़ून देख कर
घूँट ख़ून के पीते लोग ।

और उधर जलसों की धूम
काट रहे हैं फीते लोग ।

भाव-शून्य शब्दों का कोश,
बाँट रहे हैं रीते लोग ।
-----

इस धरती के राम जंगली,
इसके नमन-प्रणाम जंगली ।

कुडई, कुंद, झुईं सम्मोहक,
वन-फूलों के नाम जंगली ।

वन्याओं-सी वन छायाएँ,
हलवाहे-सा घाम जंगली ।

भरमाते चाँदी के खरहे,
स्वर्ण-मृगों के चाम जंगली ।

यहाँ प्रभात ‘पुष्पधंवा’-सा,
मीनाक्षी-सी शाम जंगली ।

शकुंतला-सी प्रीति घोटुली,
दुष्यंती आयाम जंगली ।

दिशाहीन, अंधी आस्था के,
जीवन का संग्राम जंगली ।
------

दर्द ने भोगे नहीं जिस दिन नयन,
मिल गया उस दिन हृदय को गीत धन ।

जब अँधेरा पी चुके सूरजमुखी,
तब दिखाई दी उन्हें पहली किरन ।

नींद टूटी जिस सपन की शक्ति से,
चेतना के घर मिली उसको दुल्हन ।

फूल जब चुभ गए, तो मन को लगा,
है बडी विश्वस्त काँटों की चुभन ।

देखते ही बनी बिजली की चमक,
जब घटाओं से घिरा उसका गगन ।

छाँह के अहसान से जो बच गया,
धूप के दुख नें किया उसको नमन ।
-----

2 comments:

  1. बहुत ही अनुभवी फजलें हैं |

    लालजी को २-३ बार पहले भी पढ़ा है |

    अवनीश तिवारी

    मुंबई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अनुभवी फजलें हैं |

    लालजी को २-३ बार पहले भी पढ़ा है |

    अवनीश तिवारी

    मुंबई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget