" एक दुआ बन जाये ...."

एक नजर
जिसकी कोई कशिश
अधूरी सी .........
महफ़िल हो या तन्हाई
वो खोजे हर पल ...
किसी की अपने की परछाई,
गहरी सागर सी नजर
जिसमे जज्बातों की एक लहर..
बिन लफ्ज़ों के ही ...
बतियती ये नजर..
सलोने खवाब दिखाए ये नजर
जिसकी शरारत से
कोई हया से सिमटा जाये
अपने ही दामन में ....
ये नजर
उठे तो कयामत ....
और झुके तो रहम बन जाये,
और वो जुड़े जब ..
तेरी शखसियत से तो
एक दुआ बन जाये ....

******

"एक तन्हा पल"

एक तन्हा पल....
जो छुकर तुम्हे
मुझ तक है  आया
मेरे मन के दर पर
यादो की दस्तक बनकर छाया
थोडा सा घबराया ,थोडा सा सकुचाया
मेरे करीब बैठ  थोडा  सा वो अंगड़या,
शुरू हुआ फिर सिलसिला ...
उन  बीते पलो को याद करने का
जो मैंने  तुम्हारे साथ गुजारे थे ,
कभी ये पल ख़ुशी देते ...
तो कभी आँखों  को नम करते ...
पर ये पल ही तो है ...
जिन्होंने अब तक मेरा साथ निभाया
जब तुम हो कर भी नहीं थे
और आज होकर भी नहीं हो
मेरे पास........

******

"मिलना उस मोड़ पर "

मुझे मिलना उस मोड़ पर ,
जहा केवल हम दोनों हो
वो मोड़ ऐसा हो-----
जहा से ना पीछे हट सकू '
और से ना आगे जा सकु
बिन संग तुम्हारे ....
मुझे मिलाना उस मोड़ पर
जहा बसंती हवा के झोके मुझे
मीठी सी कशिश में बांध ले
और तुम्हे भी रंग ले अपने रंग में .
मुझे मिलना उस मोड़ पर
जब मै बिखर जाऊ ,
अमलताश की भांति.....
और तुम समेट लो ....
अपनी बाहों में मुझे .
मुझे मिलना उस मोड़ पर
जब तुम सुनना चाहो
कुछ दिल से ---
और मै कुछ कहना चाहू
दिल से .....

******

7 comments:

  1. आप की कविताए बहुत ही रचनात्मक है और दिल को छु लेती है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Poems are really nice....Nice creativity.

    उत्तर देंहटाएं
  3. khup chan aahe kavita tujhya....asach Kavita karat raha...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ek dua hai hamari, tanhai dur ho tumhari,
    mile uss mod par wo tumhe, jaha hasrate puri ho tumhari...

    Dr your poems are sensitive and heart touching..
    keep it up and best of luck..aj

    उत्तर देंहटाएं
  5. "yeh dard kuchh apna sa lagta hai.
    par ab to har dard bhi bas sapna sa lagta hai."

    apni kalam ko kabhi rukne mat dijiyega Prajakta ji. aapki abhivyaktiyaan dil ko gehraayi tak chooti hain.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget