विरासत में 'उपेन्द्र नाथ अश्क' की कहानी 'पहेली'
रामदयाल पूरा बहुरूपिया था। भेस और आवाज बदलने में उसे कमाल हासिल था।  कॉलेज मे पढ़ता था तो वहाँ उसके अभिनय की धूम मची रहती थी….|
----------
भाषा सेतु में ‘सुब्रमण्यम भारती’ की कविता ‘वंदेमातरम’
आओ गाएँ 'वन्देमातरम'
भारत माँ की वन्दना करें हम।   
----------
देस-परदेस में ‘फ्रांज़ काफ़्का’ की ‘कानून के दरवाज़े पर’
कानून के द्वार पर रखवाला खड़ा है। उस देश का एक आम आदमी उसके पास आकर कानून के समक्ष पेश होने की इजाज़त मांगता है।   
----------
दीप्ति गुप्ताकी कहानी पारदर्शी
राजश्री की रात आँखों में ऐसे रिस-रिस के बीती कि सुब्ह उसका सिर दर्द से फटा  जा रहा था। इतनी बेचैन तो वह कभी नहीं हुई। ये क्या हो रहा है उसके साथ?  
----------
‘सूरजप्रकाश’ की कहानी ‘यह जादू नहीं टूटना चाहिये’
अभी केबिन में आकर बैठा ही हूं कि मेरे निजी फोन की घंटी बजी। इस नम्बर पर कौन हो सकता है। मैंने हैरान होते हुए सोचा....।    
----------   
'बलराम अग्रवाल' का आलेख 'लघुकथा का नेपथ्य'
लघुकथा, कहानी और उपन्यास की प्रकृति और चरित्र में इनके नेपथ्य के कारण भी आकारगत आता है।
----------
धूमिल की कवितायें
करछुल...
बटलोही से बतियाती है और चिमटा..।  
----------
मैंने पढी किताब में सरिता शर्माका 'दि गर्ल' पर विमर्श  
बार गर्ल्स के जीवन पर लिखे नॉनफिक्शन ब्यूटीफुल थिंगसे विख्यात होने वाली पत्रकार और लेखिका सोनिया फेलेरो का पहला उपन्यासदि गर्लहै।   
----------
’विजेन्द्र’ की कविता ‘एक बच्चे के जन्म पर'
मैं इन आवाजों को सदियों से सुन रहा हूँ
ये मेरे पूर्वजों ने भी सुनी थी।
----------
‘विष्णु प्रभाकर’ की लघुकथा ‘फ़र्क’
उसने उत्तर दिया,"जी नहीं, मैं उधर कैसे जा सकता हूँ?" और मन ही मन कहा-मुझे आप इतना मूर्ख कैसे समझते हैं? मैं इंसान, अपने-पराए में भेद करना मैं जानता हूँ।
----------
इस अंक की ई-पुस्तक – “हरि भटनागर की पच्चीस कहानियाँ”
ई-पुस्तक हरि भटनागर की पच्चीस कहानियाँ को डाउनलोड करने के लिये कृपया नीचे दिये गये लिंक पर जायें।  
----------

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget