मैं इन आवाजों को सदियों से सुन रहा हूँ
ये मेरे पूर्वजों ने भी सुनी थी
ये मेरे वंशजों ने भी सुनी थी
ये आवाजें
धरती के गर्भ से उठती हैं
लोग इन्हें सुनते नहीं
वे इन्हें हमारे बीच फैलने नहीं देते
ये पूरी धरती को अपने में समेटना चाहती हैं
ये समुद्र की तरह विशाल और मरूस्थल की तरह
उत्तप्त
ये पठारों की तरह कठोर, पतझर की तरह सूखी
और वर्षा की तरह गीली।
मैंने कई बार इन्हें अपने निजी प्यार की संज्ञा दी है
आदमी के मुक्त होने से पूर्व
सारा देश इन्हें हवाओं के साथ सुनता है
ये बाँक की तरह पैनी और फूलों की तरह नरम है
इन्हें घने जंगल कटते समय जाड़े की अँधेरी रात में सुना है
इन्हें बच्चों की हँसी, माँ के प्यार
और दोस्त की सच्चाई की तरह सुना है
इनमें हर बार लौह श्रृंखलाओं की आकृतियाँ उभरती हैं
डर से भागते पाँव की धमक, टूटी रस्सियों के छोर
और काँटेदार तारों के क्रूर-बाड़े।
इन्हें मैं सुनता हूँ
धातुओं के चुपचाप, चुपचाप पिघलने की बेचैनी में
जहरीले हथियारों से पड़े भद्दे निशानों की तरह।
मैं सुनता हूँ इन्हें
जब एक आदमी दूसरों के लिए फसल काट कर अपना जिस्म
सुखाता है
जब बड़ी-बड़ी इमारतें बनते वक्त मलबे से लाशें निकलती हैं
जब रात के चिल्ला जाड़े में खादर का किसान
खेत में पानी काटता है
जब माँ बच्चों को दूध पिलाती है
जब मैं तुम्हारे सूखे बालों में गुड़हल का फूल खौंसता हूँ
एक बच्चे के जन्म पर
जब सहसा धरती स्फूर्त हो उठती है
मैं सुनता हूँ उन्हें अपने कानों से
मैं छूता हूँ उन्हें अपनी प्यारी आँखों से
वे काले-काले नरकंकाल घने बालों से अपने जिस्म को ढँके
जंगलों में घूमते हैं
उनकी आकृतियों पर मेरे पूर्वजों के चिन्ह हैं
मेरे वंशजों, मेरे देश, मेरी धरती, जल
हवा
और झरनों के निशान हैं,
मैं सुनता हूँ उन्हें बिल्कुल अकेले
असंख्य लोगों के बीच
दुख और उदासी से मुर्झाए चेहरों की तरह शांत
डूबते सूरज की तरह लाल
उगते दिन की तरह खुशनुमा
और टूटी दीवार की तरह बेहाल।
मैं सुनता हूँ
सुनता हूँ
उन्हें सदियों से
इन्हें मेरे वंशजों ने भी सुना है
इन्हें मेरे पूर्वजों ने भी सुना है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget