विरासत में ‘रामधारी सिंह दिनकर’ की कविता ‘हिमालय’
तू मौन त्याग, कर सिंहनाद; रे तपी आज तप का न काल
नवयुग-शंखध्वनि जगा रही; तू जाग, जाग, मेरे विशाल।  
----------
देस-परदेस में ‘कार्ल मार्क्स’ की कविता ‘जेनी के लिये’
सबोधित करता हूँ गीत क्यों जेनी को
जबकि तुम्हारी ही ख़ातिर होती मेरी धड़कन तेज़।
----------
रूपसिंह चन्देल का यात्रा संस्मरण 'वाह अंबरसर! वाह-वाह वाघा!!'
1977 के अक्टूबर माह की बात है। एक मित्र से यशपाल काझूठा सचप्राप्त हुआ। विभाजन की त्रासदी ने मेरे अंदर हलचल मचा दी।  
----------
शशि पुरवार की लघुकथाएं  
भोपाल जाने के लिए बस जल्दी पकड़ी और आगे की सीट पर सामान रखा था कि किसी के जोर जोर से रोने की आवाज आई।
----------
गणेश चतुर्थी पर डॉ. सरस्वती माथुर के ‘हाईकु’
पूज्य गणेश
करते हैं कल्याण/ देव महान।   
----------
सुबोध श्रीवास्तव की दो कवितायें
तुमने कहा/ कि तुम/ सूरज के पास रहते हुए भी
नहीं भूले/ झोपड़ी का अंधेरा
----------   
आलोक पुराणिक का व्यंग्य 'हिन्दी के ग्लोबल योद्धा'
कल हिंदी दिवस पर कई हिंदी सेवियों से मुलाकात हुई। 2012 में हिंदी सेवी होना आसान काम नहीं है।   
----------
मजाज़ लखनवी की कुछ नज़्में  
अब गुल से नज़र मिलती ही नहीं अब दिल की कली खिलती ही नहीं
ऐ फ़स्ले बहाराँ रुख़्सत हो, हम लुत्फ़-ए-बहाराँ भूल गए।
----------
‘आओ धूप’ में पियुष द्विवेदी ‘भारत’ की कहानी ‘नियम’
आज दो दिन हो गए थे उसको गाँव आए! करीब दस साल बाद वो गाँव आया था! इन दस सालों में उसके मम्मी-पापा तो कई बार गाँव आए.....।   

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget