जश्न हम क्यों न मनाएंगे मनाने की तरह
वो हमें दि‍ल से बुलाएं तो बुलाने की तरह

तुम ठहरने को जो कहते तो ठहर जाते हम
हम तो जाने को उठे ही थे न जाने की तरह

कोई आंचल भी तो हो उनको सुखाने के लि‍ए
अश्क तब कोई बहाए भी बहाने की तरह

टीस कहती है वहीं उठके तड़पती सी काज़ल
दि‍ल को जब कोई दुखाता है दुखाने की तरह

गर्मजोशी की तपि‍श भी तो कुछ उसमें होती
हाथ "महरि‍ष " वो मि‍लाते जो मि‍लाने की तरह
=====

नाकरदा गुनाहों की मि‍ली यूं भी सज़़ा है
साक़ी नज़रंदाज़ हमें कर के चला है

क्या होती है ये आग भी, क्या जाने समंदर
कब ति‍श्नालबी का उसे एहसास हुआ है

उस श्ख़्स के बदले हुए अंदाज़ तो देखो
जो टूट के मि‍लता था, तकल्लुफ़़ से मि‍ला है

महफ़ि‍ल में कभी जो मेरी शि‍रकत से ख़फ़ा था
महफ़ि‍ल में वो अब मेरे न आने से ख़फ़ा है

क्यों उसपे जफ़ाएं भी न तूफ़ान उठाएं
जि‍स राह पे नि‍कला हूं मैं, वो राहे-वफ़ा है

पीते थे न "महरि‍ष",तो सभी कहते थे ज़ाहि‍द
अब जाम उठाया है तो हंगामा बपा है

=====

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget