रीति-नीति है पीछे छूटी सब कुछ यहां नया बन आया,
प्राच्यता को पुराना समझा, संदेशा नया संगणक लाया।
वेश और भेष दोनों हैं बदला गिट-पिट की शौकत छाई,
रिश्ते अंकल-आण्टी में जकड़े मम्मी मम, पापा-डेड भाई ।।
                   
विदेशी बोलते अपनी भाषायें हम विदेशी में जीते हैं।
स्वभाषा-गौरव की न रक्षा प्याला गरल का पीते हैं।
निज भाषा उन्नति ही अपनी एकता का सूत्र है होती,
उसके स्वाभिमान की रक्षा बिन स्वप्न सभी रीते हैं।।
             
जहां चाहें जैसे खर्च करते यह दाम हैं।
योजनाओं में इनके कागजी ही काम है।
समाज में व्याप्त यही रक्त लोभी जोंके,
भारतीय होकर भी अंग्रेजी की गुलाम हैं।।

राष्ट्रभाषा हिन्दी का नित डटकर करो प्रसार,
जन-जन की भाषा बने अपनाये संसार।
महके कण-कण इसकी विश्व में प्रतिष्ठा से
कई दशकों से वन्चिता को दिलवाइये अधिकार।।
     
तुलसी मीरा और जिसमें रसखान मिलते हैं,
प्रसाद, पन्त,निराला और महादेवी के गान मिलते हैं।
भारतीय एकता की मूल मंत्र रही हिन्दी को
आजादी के दशकों बाद भी क्यों न अधिकार मिलते हैं।।
           
विदेशियों से मुक्त हुए कई दशक बीते हैं
मत जो व्याप्त था लोग उसी में आज भी जीते हैं।
भाषा-संस्कृति के आक्रमण हम पर होत-
स्वभाषा-संस्कृति की रक्षा में हम रहे क्यों पीछे हैं।।

विदेशी बोलते अपनी भाषायें पर हम विदेशी में जीते हैं,
स्वभाषा-गौरव की न रक्षा प्याला गरल का ही पीते हैं।
निजभाषा उन्नति ही अपनी एकता का सूत्र है होती-
उसके स्वाभिमान की रक्षा बिन स्वप्न सभी रीते हैं।।

भारत का सम्मान बिन्दु हिन्दी देश के मस्तक की यह बिन्दी,
देश में ममता का नाम हिन्दी, सूर,मीरा,तुलसी का गान हिन्दी।
प्रसाद,पंत,निराला का मान हिन्दी,रसखान के रसों की खान हिन्दी।
कबीर,जायसी,रहीम-भूषण की हन्दिी, एकता का वरदान हिन्दी।।

2 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget