गुरु आइना
शिष्य झांके उसमे
अक्स देखते

गुरु का स्नेह
होता है अनमोल
ज्ञान बांटता

बीज ज्ञान का
गुरुजी हैं दिलाएं
सींच ज्ञान से

शिक्षा के पंख
लगा कर उड़ते
पाखी से छात्र

गुरु की डोर
विधार्थी पतंग सा
उड़ना सीखे

श्रद्धेय गुरु
आदर्श सिखाता है
ज्ञान ज्योति से

पत्थर छात्र
पारस हो चमके
ज्ञान लेकर

गुरु रस को
पीकर के ही मिली
दिव्य रोशनी

चक्षु ज्ञान के
खुले पाठशाला में
पढ़ किताबें

गुरुजनों को
शिक्षक दिवस पे
करें नमन

शिक्षा पाकर
अनुभवों की खोलो
ज्ञान की पोथी

ज्ञान सिन्धु में
गोता लगाया तब
शिक्षा लौ जली

ज्ञान का धागा
गुरु ने बाँध कर
आगे बढाया

गुरु स्नेह से
शिक्षा दिवस पर
भीगी थी आँखें

दीप ज्योति सा
शिक्षक दिवस है
पावन दिन

आशीर्वाद दें
शिक्षक दिवस पे
गुरु शिष्य को

गुरु की वाणी
अनुभवों की होती
खुली किताब

8 comments:

  1. Teachar ka importance sab k jivan me hota hai. Aur unke bare me yah panktiya padhkar mujhe badi khushi huyi. Kyonki aaj bhi hamare computer techonology ki duniya me teachear ka sthan bada hi mahatavpurna hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. bade hi sundar haiku rache hain maasi....saare bhaav khul ke saamne aaye hain....air fir shikshak kaa mahatv hai hi bejod.....aapne itne sundar ttarah se kahi hai ye baat

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीना दीवान says ....

    बहुत सुंदर हाइकु हैं ...डॉ सरस्वती माथुर के, एक से बढ़ कर एक ...हाइकुकार को बधाई ...

    नीना दीवान

    उत्तर देंहटाएं
  4. सीमित शब्दों में असीमित बातें कह दीं आपने। आपकी लेखनी को नमन!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. "ज्ञान सिन्धु में
    गोता लगाया तब
    शिक्षा लौ जली" सरस्वती जी ,बहुत सुन्दर मोती आपके ज्ञान सागर से

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुरु रस को,पीकर के ही मिली,
    दिव्य रोशनी!
    सरस्वती जी , सभी पद अनमोल हे सार गर्भित हे और प्रकाश युक्त हे , शुभ कामनाये !! मंजुल भटनागर

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रत्येक हाइकु आपका गुरु प्रेम दर्शाता है | वास्तव में ऐसी रचनाएं वही लिख सकता है जो गुरु शिष्य परम्परा के आदर्शों को आने वाली पीढ़ी तक पहुंचाना चाहता है | बहुत सार गर्भित हाइकु हैं सरस्वती जी | बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  8. जगदम्बा लाल ने कहा.....
    हाईकु लिखने में माहिर हैं आप ...बहुत सार्थक -अर्थपूर्ण सुंदर हांईकु !
    जगदम्बा लाल

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget