कागभुशुण्डि जी, कोलिला शर्मा से बतिया रहे थे।

‘बताईये कलकता को कोलकाता कर दिया, मद्रास को चेन्नई कर दिया, बम्बई को मुम्बई कर दिया, बेंगलोर को बेंगलुरु कर दिया लेकिन कभी डलहौजी या बख्तियारपुर के नाशम भी बदलेंगे?’ काक नें कहा। 

‘ये नाम क्यों बदलने चाहिये?’ मृदुभाषिणी कोकोला नें पूछा।

‘जिस कारण और सभी नाम बदले और उन्हे पुराना नाम मिला। जिन शहरों की मैं बात कर रहा हूँ उनके नाम तो अपने समय के सबसे बडे दैत्यों पर आज भी पडे हुए हैं, बदलना चाहिये’ काक नें पूरी करकशता के साथ कहा।

‘नेतागिरि करना चाहते हैं क्या?” कोकिला बोली।

“नहीं तो”

“तो भारत की संस्कृति का काहे चूना उखाड रहे हैं? आजकल केवल वही बदलता है जिसके बदलने या न बदलने से किसी का कुछ नहीं बदलता है।“

‘बात तो ठीक है वो कहते है न कि नाम में क्या रखा है?’

‘नाम में काहे नहीं रखा? कागभुशुण्डि से आपको सब कौवा बुलाने लगें तब...?” कोकिला मुस्कुराई।

“आप भी ना.......” काक खिसिया गये थे। 
 ==========

8 comments:

  1. EK ACHCHHEE LAGHU KATHA HAI ` NAAM MEIN KYA RAKHA
    HAI ` . RAAJEEV JI KO BADHAAEE .

    उत्तर देंहटाएं
  2. EK ACHCHHEE LAGHU KATHA HAI ` NAAM MEIN KYA RAKHA
    HAI ` . RAAJEEV JI KO BADHAAEE .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बात तो सही है राजीव जी. नाम में बहुत कुछ रखा है. एक अच्छी लघुकथा.

    चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  4. naam se anaam / gumnaam honetak to thee badnaam hone tak kaun jana chahegaa?

    naam vahee badlen jate hain jinse rajnaitik hit sadhta hai anyatha india ko bharat n kar diya hota? cyloe to shreelanka ho gaya india bharat naheen ban paya.

    उत्तर देंहटाएं
  5. naam to ab aam ho gye aur aam aaj ka naam ho liya fir kya naam kya aam

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget