जादुई यथार्थ का उपन्यास

मान लीजिए कोई व्यक्ति धुत्त होकर पंद्रह साल तक कोमा में चला जाये और उसे उस अवस्था में उसे खूब लंबा सपना आये। सपना भी इतना अजीबोगरीब कि वह  क़त्ल के झूठे इल्जाम में सजा भुगतने के लिए जेल चला जाये। एक मजेदार दृश्य में मौत नायक को लेने के लिए आती है, तो वह मुक्का मार कर उसकी नाक तोड़ देता है। मौत डर कर भाग जाती है और अगले बीस साल तक उस जेल में कदम रखने की हिम्मत नहीं कर पाती है। असली कातिल द्वारा अपना जुर्म कबूल करके नायक को रिहा करा देने तक चलने वाले इस महास्वप्न के वर्णन के दौरान पाठक साँस थामे कल्पनालोक में विचरण करता रहता है। फिर सपना खत्म होने के साथ-साथ नायक की बेहोशी भी टूट जाती है और वह असली जिंदगी में प्रवेश करता है। बियी बन्देले के उपन्यास ‘दि स्ट्रीट’ की खासियत यही है कि सच और कल्पना एक दूसरे के पूरक  बन जाते हैं।

उपन्यासकार और नाटककार बियी बन्देले का जन्म उत्तरी नाइजीरिया में हुआ। उन्हें पत्रकारिता, थिएटर, फिल्म, रेडियो और टीवी से जुड़े होने के नाते ब्रिटेन में बसे  समकालीन नाइजीरियाई लेखकों में सबसे बहुमुखी लेखक के रूप में मान्यता प्रदान की गयी है। ‘दि स्ट्रीट’ में लन्दन के उपनगर ब्रिक्सटन के बहुनस्लीय समुदाय के वातावरण को दर्शाया गया है। इसमें  ओस्सी जोन्स के जीवन के अंतिम दिन को चित्रित किया गया है। वह वकील है जो बेटी  नेहुस्ता  के साथ ब्रिक्सटन में रहता है। पत्नी  केट की बच्चे को जन्म देने के समय मृत्यु के बाद से वह बहुत अधिक शराब पीने लगता है। पिता और बेटी को सैर के दौरान रास्ते में मिलने वाले पात्रों के माध्यम से ब्रिक्सटन शहर के जीवन प्रस्तुत किया है। तीन परस्पर जुड़ी कथाएं हैं जो चित्रकार नेहुस्ता और उसके पिता ओस्सी जोन्स, एक नाइजीरियाई पत्रकार दादा और उसके चचेरे भाई हेकलर और कोर्नर 7-इलेवन में काम करने वाली सुन्दर लड़की पर आसक्त पड़ोस में रहने वाले हाइफ़ा कम्पाना पर केंद्रित हैं। ये पात्र सौहार्द की भावना, अपनेपन की तलाश और स्वयं को समझने के लिए एक दूसरे के जीवन में आवाजाही करते रहते हैं।

बियी बन्देले ने हास्य, स्वप्नमयता, जुनून, और विनोद  को मिलाकर जादुई माहौल का निर्माण किया है। बियी बन्देले जादुई यथार्थवादी हैं और भाषा से बहुत प्रेम करते हैं। उनमें अद्भुत काव्यात्मकता है और वह सावधानी से चुने गये कुछ शब्दों के इस्तेमाल से  जादुई छवियों को प्रस्तुत करने में सक्षम हैं। उनका हास्यबोध भी उल्लेखनीय है। एक पात्र सायरन और गोलियों की आवाज के लगातार सुनने का जिक्र करता है। स्थानीय लोग इसे  ब्रिक्सटन का  राष्ट्र गान समझते हैं। कुछ वाक्य बहुत  चुटीले और यादगार हैं जैसे- ‘उसका दिमाग सांप के काटने जितना तीखा था  और उतना ही घातक भी।’ या ‘उसकी मुस्कान इतनी उजली और गर्मजोशी भरी थी कि लोग उसके तले अपने कपड़े सुखा दिया करते थे।’

एक दृश्य में कोई पूछता है, ‘आज की सुबह जिंदगी तुम्हारे साथ कैसा सुलूक कर रही है?’ जवाब मिलता है, ‘जैसा एक बच्चा डायपर के साथ करता है।’

चोर और उसकी प्रेमिका के संवाद भी दिलचस्प हैं -

‘जानेमन, क्या तुम्हारी माँ चोर है?'

'नहीं, वह चोर नहीं है।'  प्रेमिका ने नाराज होकर कहा। चोर बोला, 'अच्छा, तो प्रिये, फिर इतने सारे हीरे किसने चुराकर तुम्हारी आँखों में डाल दिये हैं?’ 

इस उपन्यास  में ब्रिक्सटन में आप्रवासी संस्कृति के इतिहास को अतियथार्थवादी शैली में चित्रित किया है जहाँ अफ्रीकी आप्रवासी रहते हैं, काम करते हैं और अपना मनबहलाव करते हैं। समीक्षक केट फ्लेमिंग  ने ठीक ही कहा है, ‘दि स्ट्रीट’ में  कुछ व्यक्तियों के जीवन पर प्रकाश डालने या ब्रिक्सटन स्ट्रीट के समुदाय को चित्रित करने की कोशिश ही नहीं की गयी है, बल्कि यह अफ्रीकी समुदाय की विरासत को भी प्रदर्शित करता है।’
=====

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget