GulzarPoetry4

Pran Sharmaरचनाकार परिचय:-


प्राण शर्मा वरिष्ठ लेखक और प्रसिद्ध शायर हैं और इन दिनों ब्रिटेन में अवस्थित हैं। आप ग़ज़ल के जाने मानें उस्तादों में गिने जाते हैं। 

आप के "गज़ल कहता हूँ' और 'सुराही' काव्य संग्रह प्रकाशित हैं, साथ ही साथ अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।

बुला कर घर में हर इक अजनबी को 
न डाला कर तू ख़तरे में खुदी को 

बहुत देखे हैं मैंने लोग ऐसे 
तरसते रहते हैं जो दोस्ती को 

बगीचे की सजावट उनसे ही है 
सराहें क्यों न हम हर इक कली को 

चलेगा उसका जादू हर किसी पर 
सजा कर देख प्यारे ज़िंदगी को 

न जाने किस जहां में खो गई है 
चलो, हम ढूँढ लाएं सादगी को 

3 comments:

  1. न जाने किस जहां में खो गई है
    चलो, हम ढूँढ लाएं सादगी को

    बहुत खूब सर , क्या बात है .
    एक छोटे से शेर में आपने ज़िन्दगी का फलसफा कह दिया ..
    सलाम कबूल करे सर.
    आपका अपना विजय

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह गजल मन को छू गयी,जिससे गुजरना एक सुकून भरे अहसास को महसूस करने जैसा है,
    न जाने किस जहां में खो गयी है
    चलो,हम ढूंढ लायें सादगी को.
    बेहतरीन अंदाज,बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget