आज के दौर में संगीत की चर्चा पं. भीमसेन जोशी के बिना अधूरी है। पं भीमसेन जोशी का जन्म कर्नाटक के गडक जिले में 4 फ़रवरी वर्ष 1922 को हुआ था। उनके पिता स्थानीय हाई स्कूल के हेडमास्टर थे। पं भीमसेन जोशी अपने 16 भाई बहनो मे सबसे बडे थे। बचपन में माता का देहांत हो जाने के कारण पालन पोषण विमाता के द्वारा किया गया। पं. जोशी को बचपन से ही संगीत की धुन लग गयी थी। उनके स्कूल जाने के रास्ते पर ही 'भूषण ग्रामोफ़ोन शॉप' थी। ग्राहकों को सुनाए जा रहे गानों को सुनने के लिए भीमसेन वहीं खड़े हो जाते थे। एक दिन उन्होंने 'अब्दुल करीम ख़ान' का गाया 'राग वसंत' में 'फगवा' 'बृज देखन को' और 'पिया बिना नहि आवत चैन' ठुमरी सुनी। कुछ ही दिनों पश्चात उन्होंने कुंडगोल के समारोह में सवाई गंधर्व को सुना। पुत्र की संगीत में रुचि होने का पता चलने पर इनके पिता गुरुराज ने 'अगसरा चनप्पा' को भीमसेन का संगीत शिक्षक नियुक्त कर दिया।

 अभिषेक सगररचनाकार परिचय:-

अभिषेक सागर बिहार के एक छोटे से गाँव मे जन्मे अपनी साहित्यिक अभिरुचि तथा अध्ययन शील प्रवृत्ति के कारन आप लेखन से जुडे। वर्तमान मे एन एच पी सी मे कार्य करते हुए आप साहित्य शिल्पी के संचालक सदस्यों में हैं।


 अपनी संगीत शिक्षा से संतुष्ट न हो कर भीमसेन ग्वालियर भाग आये और वहाँ के 'माधव संगीत विद्यालय' में प्रवेश ले लिया। ग्वालियर के 'करवल्लभ संगीत सम्मेलन' में उनकी मुलाकात में विनायकराव पटवर्धन से हुई। मिले। विनायकराव को आश्चर्य हुआ कि सवाई गन्धर्व उसके घर के बहुत पास रहते हैं। सवाई गन्धर्व ने भीमसेन को सुनकर कहा, "मैं इसे सिखाऊँगा यदि यह अब तक का सीखा हुआ सब भुला सके।” इसी तरह अनेक ज्ञानियों का जिनमें इनायत खान, स्यामाचार्या जोशी आदि है के सहयोग व सीख से उन्हें जो ज्ञान मिला उसके फलस्वरूप वे एक महान संगीतकार के रूप में ख्यातिप्राप्त हुए। वर्ष 1941 में भीमसेन जोशी ने 19 वर्ष की उम्र में मंच पर अपनी पहली प्रस्तुति दी। उनका पहला एल्बम 20 वर्ष की आयु में निकला,जिसमें कन्नड़ और हिन्दी में कुछ धार्मिक गीत थे। इसके दो वर्ष बाद वह रेडियो कलाकार के तौर पर मुंबई में काम करने लगे। विभिन्‍न घरानों के गुणों को मिलाकर भीमसेन जोशी अद्भुत गायन प्रस्तुत करते थे। जोशी जी किराना घराने के सबसे प्रसिद्ध गायकों में से एक माने जाते थे। उन्हें उनकी ख़्याल शैली और भजन गायन के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। पंडित भीमसेन जोशी ने कई फ़िल्मों के लिए भी गाने गाए। उन्होंने ‘तानसेन’, ‘सुर संगम’, ‘बसंत बहार’ और ‘अनकही’ जैसी कई फ़िल्मों के लिए गायिकी की।

 शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में पं. भीमसेन जोशी जैसी लोकप्रियता कम ही कलाकारों को प्राप्त हुई है। छह दशकों तक देश विदेश में अपने असंख्य प्रशंसकों को अपने गायन से मंत्रमुग्ध करने वाले पं. भीमसेन जोशी ऐसे अनुपम रत्न थे कि जिनके नाम के साथ जुड़कर भारतरत्न की पदवी सम्मानित होती है। उन्हें 1972 में 'पद्म श्री, 1985 में 'पद्म भूषण', 1999 में 'पद्म विभूषण' तथा 4 नवम्बर, 2008 को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्‍न' प्रदान किया गया था। वे 'संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार' से भी सम्मानित किये गये हैं। पंडित भीमसेन जोशी का निधन 24 जनवरी, 2011 को पुणे, महाराष्ट्र में हुआ इसके साथ ही एक युग का अंत हो गया था।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget