IMAGE1
किशोरवय नीरज ने चहकते हुए माँ से पूछा "माँ मेरे जन्म पर दादी ने सारे शहर में लड्डू बटवाए थे ना और दादाजी ने किन्नरों को इक्यावन हजार नकद व सोने की चेन दी थी |

रचना व्यासरचनाकार परिचय:-



रचना व्यास मूलत: राजस्थान की निवासी हैं। आपने साहित्य और दर्शनशास्त्र में परास्नातक करने के साथ साथ कानून से स्नातक और व्यासायिक प्रबंधन में परास्नातक की उपाधि भी प्राप्त की है।

ताईजी कह रही थी कि ताउजी ने नाइन को सोने की अंगूठी दी थी और पिताजी ने तो वार -फेर में ही पूरे बीस हजार खर्च कर दिए | " इन बातों पर इठलाता हुआ नीरज पूछने लगा "माँ , सबसे ज्यादा उदारदिल कौन है ?" "बेटा ! तुम मेरे विवाह के पांच साल बाद हुए , यदि तुम्हारे नाना मेरी माँ के गहने गिरवी रखकर मेरा इलाज न करवाते तो मैं आज इस घर में नहीं होती | " उसने बुदबुदाते हुए आँखे पोंछ ली |

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget