IMAGE1
माना तुम हो एक बड़े खरीददार
और ये दुनिया बाजार।
चलो,
ये भी माना,
बाजार में सब पर टँगा है
प्राइस टैग।।


 डॉ• भारती अग्रवाल रचनाकार परिचय:-



डॉ• भारती अग्रवाल
दिल्ली विश्वविद्यालय से बी• ए•, एम• ए•, एम• फिल•, पी• एच• डी• की उपाधी प्राप्त । नेट (यू• जी• सी•) परीक्षा उत्तीर्ण । कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय से जनसंचार में शिक्षा प्राप्त की। केन्द्रीय हिन्दी संस्थान , आगरा विश्वविद्यालय से अनुवाद में डिप्लोमा प्राप्त।
विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में आलेख प्रकाशित।
‘हिन्दी की चर्चित कवियत्रियाँ’ कविता संकलन में कविताएँ प्रकाशित ।
'शानी' के रचना संसार का समाज पुस्तक प्रकाशित।
सन् 2000 में बालकन जी बारी संस्था द्वारा राष्ट्रिय युवा कवि सम्मान ।
संप्रति अध्धयन अध्धयापन लेखन
संपर्क 011- 25812582
aggarwal_dr.bharti@yahoo.com

किसी टैग पर लिखा है,
ईमानदारी, विश्वास।
किसी की कीमत है,
धोखाधड़ी, भ्रष्टाचार।
किसी पर लिखा है,
पैसा, घात-प्रतिघात ।।

तुम भूल गए शायद
खेलते-खेलते
बाजार का खेल
किसी-किसी टैग पर लिखा होता है
नॉट फॉर सेल।

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget