IMAGE1
माननीय इलाहाबाद हाईकोर्ट की खंडपीठ का, स्वागत किये जाने योग्य फैसला, अखबार राजस्थान पत्रिका दिनांक १९ अगस्त १५ के माध्यम से पढने को मिला |


 सुशील यादव रचनाकार परिचय:-



यत्रतत्र रचनाएं ,कविता व्यंग गजल प्रकाशित | दिसंबर १४ में कादम्बिनी में व्यंग | संप्रति ,रिटायर्ड लाइफ ,Deputy Commissioner ,Customs & Central Excise ,के पद से सेवा निवृत, वडोदरा गुजरात २०१२ में सुशील यादव New Adarsh Nagar Durg (C.G.) ०९४०८८०७४२० susyadav7@gmail.com

इस अहम् फैसले में सभी जन-प्रतिनिधियों ,नौकरशाह ,व न्यायाधीशों के बच्चों को सरकारी स्कूल में ही पढाने का आदेश दिया है |

वर्तमान में बहुत कम सरकारी कर्मी हैं, जिनके बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं |इसके लिए जो भी व्यवस्था हो किया जावे |

कुछ दिनों पहले , मैंने अपनी व्यंग रचना, “सब कुछ सीखा हमने” जो रचनाकार के ११जून १५ को प्रकाशित है ,एक संभावना व्यक्त किया था ,कि “ वैसे अपने देश में, राजनीतिग्य लोग भ्रामक और बेहूदा बयान आये दिन दिए रहते हैं|

किसी दिन, किसी के श्रीमुख से ये सुन लें कि “कम से कम दस साल तक सरकारी स्कूल में पढ़े बच्चो को सरकारी सेवा में लिया जाएगा” तो आश्चर्य ना करे |”

आज जब हाईकोर्ट ने अपने फैसले में आदेश दिया है कि जनतिनिधियों, नौकरशाह ,व् न्यायाधीशों के बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़े, तो राज्य सरकार को इसकी संभावना और इसके क्रियान्वयन में फासला जल्द से जल्द दूर करने की कोशिश करनी चहिये |

इस फैसले से दृष्टव्य है,कि सरकारी स्कूलों के दिन जल्द फिर जायेंगे |

अभी दिखता ये है कि, सरकारी स्कूल की संचालन व्यवस्था मानो भगवान भरोसे छोड़ दिया गया हो |

गाव देहात में जिस मास्टर को पढाना हो पढ़ा देता है जिसे नहीं पढाना होता वो अपने प्रधानाचार्य से मिली भगत में अल्टरनेट डेट वाली ड्यूटी निभाता है |किसी स्कूल में शिक्षक की कमी, कहीं शिक्षक हैं तो पढने वाले नदारद .....|

सरकारी स्कूल में दाखिला प्राप्त बच्चों को,अगर मिड-डे मील का लालच न हो तो बच्चे स्कूल की तरफ झांकने भी न आयें|

इन दिनों हम कमोबेश मिड-डे मील आधारित शिक्षा देने लग गए हैं |वो जमाने लद गए जब दस से पांच तक बच्चे घर की रुखी-सुखी खाकर पूरी इमानदारी से अपनी पढाई किया करते थे |

हम सब ,पढाई के स्तर से समझौता किये बैठे हैं |हमारे सरकारी स्कूल के पढने वाले बच्चों का बौधिक विकास शहरी स्कूल और पब्लिक स्कूलों में पढने वाले बच्चो से प्राय; कमतर पाया जाता है |

इन स्कूलों की दीगर व्यवस्था भी गौर करने लायक होती हैं |न सेनीटेशन,न पीने का साफ पानी., न ढंग के वाश-रुम,न बिजली न पंखे और तो और कहीं-कहीं बरसात में टपकते हुए छत कब आफत बन गिर पड़ें कह नहीं सकते |

अदालती फैसले की नजर से देखा जाए तो बड़े ओहदे-दारों के बच्चे जब यहाँ पढ़ेंगे तो तमाम जर्जर सूरतेहाल शिक्षण-संस्थानों का निराकरण आप ही आप होना शुरू हो जाएगा |हालत में उल्लेखनीय सुधार आने की गुजाइश निकल पड़ेगी |

इन बच्चो के जागरूक पालक अपने बच्चो के भविष्य को यूँ ही जाया होते नहीं देख पायेंगे |यह जागरूकता अभी सरकारी स्कूल में पढने वाले बच्चों के अधिकाँश पालकों में देखने को नहीं मिलती |उनको रोजी-रोटी कमाने की व्यस्तता इस काम में रुकावट या अवरोध पैदा करने वाले कारणों में प्रमुख है |

जागरूक पालक,जब अपने बच्चो को सरकारी स्कूल के हवाले करेगे तो वे गाहे-बगाहे , एक नजर बच्चो को मिलने वाली सुविधाओं की तरफ जरुर डालेंगे |वे घर में होमवर्क कराते हुए ही जान लेंगे, कि किस स्तर की शिक्षा उनके बच्चे पा रहे हैं |या दी जा रही हैं......इसमें वे असंतुष्ट होंगे तो शिकायत ऊपर तक पहुचेगी | इस व्यवस्था के लागू होने पर,साथ में पढने वाले गरीब तबको के छत्र छात्राओं को बहुत लाभ मिलेगा |वे बड़े घर के बच्चो को देखकर बातचीत की तहजीब,तौर तरिका और सलीका सहज सीखते रहेंगे|ग़रीबों में एक झिझक, जो अंदरूनी किसी कोने में दबी रहती है वह स्वत; दूर होते दिखेगी |

एक ज़माना था, जब पब्लिक स्कूलों की भीड़ नहीं थी, आज कुकुरमुत्ते की तरह जगह जगह ये स्कूल खुले हैं |भारी भरकम फीस ,डोनेशन ,बात-बात पर चंदा उगाही ,ड्रेस कापी किताबे उन्ही के कहे अनुसार लेने की बाध्यता जिसमे उनका कमीशन शामिल होता है,मिडिल -क्लास के लोग निरंतर झेलते आ रहे हैं | उनके सीमित आय में से बहुत बड़ा हिस्सा इस पढाई की भेट चढ़ जाता है | इस उच्च स्तरीय शिक्षा की अंधी-दौड़ में उन्हें मजबूरन इसलिए शामिल होना पड़ता है कि कही काम्पीटिशन की रेस में उनके बच्चे उच्च वर्ग के बच्चो से पीछे न रहना पड़े |

माध्यम और निम्न-आय वर्गीय परिवार के लिए ,यह बात, स्कूल में आकर ही खत्म नहीं होती .स्कूल के बाद भारी भरकम खर्चे वाला ट्यूशन का दबाव,फिर उसके तुरंत बाद किसी स्तरीय कालिज में दाखिले के लिए ली जाने वाली फीस ....... उनकी कमर ही टूट जाती है |

इन सभी समस्याओ का निदान माननीय न्यायाधीश के फैसले से संभव होते दीखता है| सभ्रांत घरो के बच्चो सहित, देश के तमाम बच्चो को कम से कम दस साल अगर सरकारी स्कूल में पढ़वाये जाएँ तो शिक्षा के स्तर में एक रूपता रहेगी | कम्पीटिशन का समान स्तर होने से निम्न व मध्यम श्रेणी के परिवार को राहत का अहसास होगा |शिक्षा में बेतहाशा खर्च की सीमा बंध जाने से सभी को समान अवसर की उम्मीदें उपलब्ध हो जायेंगी |एक दूसरे के प्रति भाईचारा का अक्षुण भाव पनपेगा |

अब इस फरमान के लागू होने का स्वरूप क्या होना चाहिए ....?

कानून यूँ बनना चाहिए कि सरकारी स्कूलों में कम से कम दस वर्ष तक बच्चे अध्ययन शील रहें |

प्रावधान यह होना चाहिए कि बिना ऊपर बताये ,न्यूनतम अवधि के दाखिले या पढाई किये बच्चो को किसी ‘सरकारी सेवा’ के पात्र न समझा जावे |

किसी नौकरी या किसी बिजनेस के सिलसिले में विदेश जाने की पात्रता भी उन्ही को उपलब्ध हो जो इन स्कूलों के पास-आउट हों |उनके पासपोर्ट में,इस पात्रता बाबत स्पष्ट उल्लेख किया जाना चाहिए |

इसकी विश्वसनीयता, आगे आने वाले दिनों में, पहला बेच निकलने के बाद सत्यापित की जा सकती है |

सरकारी स्कूलों के, परिवेश में शिक्षित बच्चे, अपने देश को बहुत नजदीक से जानते हुए पाए जायेंगे |इनमे से आगे चलकर जो आई ऐ एस ,आई पी एस या दीगर उच्च अधिकारी बनेगे, उन्हें मध्यम या निम्न वर्गीय समस्याओं का निराकरण करने में अपने विवेक का इस्तेमाल करना बखूबी आ जाएगा | उन्हें देश में कानून व्यवस्था, और अन्य जरूरतों का सम्यक हल ढूढना, मानो चुटकियों का काम लगेगा |जिस परिवेश में उसकी पोस्टिंग हुई है, वहां की आवश्यकता अनुरूप, कम लागत में अधिक फायदे की प्लानिग और जमींन से जुड़े आम-जन के हित-साधक काम अविलंब होंने लगेंगे |

वे जिस फील्ड में रहेंगे, कामयाबी के नये मुकाम तक देश को ले जायेगे,भ्रष्टाचार मुक्त भारत के सपने अगर देखना हो तो शिक्षा में सुधार के लिए यह कदम उठाना देश-हित में, जन-हित में, जरुरी दिखता है |

11 comments:

  1. सरकारी स्कूल पर सरकारें खर्च करती चल रही हैं अध्यापक भी अच्छी शिक्षा लेकर भरती होकर सरकारी स्कूल में आते हैं | यहाँ संस्कृति सभ्यता भारतीय परिवेश की जानकारियाँ दी जाती रही | आज से दो-तीन दशक पहले तक सरकारी स्कूलों कालेजों में अच्छी पढाई होती रही | इन स्कूलों पर भारी सरकारी धन खर्चकर होता है | फिर भी हमलोग अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजने से मना करते हैं यह अच्छे संकेत नहीं खे जा सकते हैं | कोर्ट ने अपना फैसला सुनाकर जनता का धन जनता के लिए ,समानता के लिए ,देश के विकाश के लिए ,बच्चों के अच्छे के लिए, समाज सुधार के लिए किया गया निर्णय मानना चाहिए भारतीय संस्कृति में बच्चों को ढालना /ढलना चाहिए | अखिल भारतीय सद्भावना एसो ० कोर्ट के निर्णय का समर्थन करता है |(सुखमंगल सिंह अध्यक्ष )

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसके फायदे तो अनेक गिनाये जा सकते हैं ।सरकार माननीय अदालत के फैसले को अमल में लाये तो आने वाले समय में जो असमानता की खाई गहरी होने जा रही है उस पर विराम लगेगा।अभी रट्टू तोते की फौज खड़ी हो रही है वहां मौलिक विचारों वाली युवा कर्मठ पीढ़ी तैयार होगी ।
    सुशील यादव

    उत्तर देंहटाएं
  3. माननीय इलाहाबाद हाईकोर्ट का निर्णय जितनी अच्छी अनुकरणीय पहल है, उतने ही इसे गंभीरता से क्रियान्वयन करने की जरुरत होगी. हमारे देश की बिडम्बना है कि यहाँ अच्छी पहल तो होती है लेकिन फिर कागजों घोड़ों पर सब सवार हो जाती हैं इसे जानने की फिर कभी कोशिश ही नहीं होती, या खबर जब ली जाती है तब तक कागजों को घोड़े ही खा जाते हैं। हमारी यही कामना है की इसे गंभीरता से लिया जाय एवं कोई इसके खिलाफ उच्चतम न्यायालय में कोई याचिका दायर न करे और यदि ऐसा होता है तो उच्चतम न्यायालय भी इस पक्ष में हो और पूरे भारत में यह लागू हो।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप जैसी समझ ,सोच का स्वागत है |क्रियान्वयन कोई असंभव दिखने वाली बात नहीं है ,बस सरकारी तबको को सीख देने वाले आई ऐ एस जमात की कृपा दृष्ठि ,नजारे इनायत होना चाहिए ,,,,?
    यहाँ गुजरात में चार पांच दिनों से अघोषित सुरक्षा कारणों से इंटरनेट बंद रखा गया ,अत:देर से उत्तर डे सका |

    उत्तर देंहटाएं
  5. हाई कोर्ट के इस फैसले का बहुत स्वागत..,निश्चय ही इससे सरकारी स्कूलोँ की व्यवस्था सुधरेगी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भारतीय न्याय व्यवस्था से मात्र एक बैसाखी मिल सकती है सरकार पर इसका नियंत्रण ना होने से कई ऐसे प्रकरण है जिनके आदेश आज तक क्रियान्वित नहीं हो सके है
      भारतीय प्रशासनिक अधिकारी जब तक ना चाहे तबतक कुछ नहीं हो सकता है

      हटाएं
    2. भारतीय न्याय व्यवस्था से मात्र एक बैसाखी मिल सकती है सरकार पर इसका नियंत्रण ना होने से कई ऐसे प्रकरण है जिनके आदेश आज तक क्रियान्वित नहीं हो सके है
      भारतीय प्रशासनिक अधिकारी जब तक ना चाहे तबतक कुछ नहीं हो सकता है

      हटाएं
    3. भारतीय न्याय व्यवस्था से मात्र एक बैसाखी मिल सकती है सरकार पर इसका नियंत्रण ना होने से कई ऐसे प्रकरण है जिनके आदेश आज तक क्रियान्वित नहीं हो सके है
      भारतीय प्रशासनिक अधिकारी जब तक ना चाहे तबतक कुछ नहीं हो सकता है

      हटाएं
  6. ख़ुशी हुई कि हमारे साहित्कार नवचेतना अभियान के भागीदार बन रहे है
    समाजिक एवम् राजनेतिक समीकरण सही बैठ जाये तो इतिहास बदला जा सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  7. ख़ुशी हुई कि हमारे साहित्कार नवचेतना अभियान के भागीदार बन रहे है
    समाजिक एवम् राजनेतिक समीकरण सही बैठ जाये तो इतिहास बदला जा सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  8. ख़ुशी हुई कि हमारे साहित्कार नवचेतना अभियान के भागीदार बन रहे है
    समाजिक एवम् राजनेतिक समीकरण सही बैठ जाये तो इतिहास बदला जा सकता है

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget