IMAGE1
लड़के का फोटो दिखाते हुए पंडितजी बोले "तो आपकी ओर से भी रिश्ता पक्का है ना |

रचना व्यासरचनाकार परिचय:-



रचना व्यास मूलत: राजस्थान की निवासी हैं। आपने साहित्य और दर्शनशास्त्र में परास्नातक करने के साथ साथ कानून से स्नातक और व्यासायिक प्रबंधन में परास्नातक की उपाधि भी प्राप्त की है।

करोड़ो की संपत्ति का अकेला वारिस और उनकी फैक्ट्री भी तो है | बिटिया इतनी पढ़ी -लिखी है , संभाल ही लेगी | अब देखना क्या है ?" पिता संतुष्ट थे चलो कुछ रचनात्मक व चुनौतीपूर्ण करने का बिटिया का सपना भी पूरा हो जायेगा | महलनुमा घर में उसका गृहप्रवेश हुआ फिर उसी रात पति की मानसिक अक्षमता के बारे में जानकर वह समझी कि उसकी सक्षमता को इतनी तवज्जो क्यों दी जा रही थी ?

8 comments:

  1. बहुत बढ़िया .....रचना व्यास जी को बधाई ....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया .....रचना व्यास जी को बधाई ....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रचनाजी,
    आपने तो थोड़े शब्दों में काफी कुछ कह दिया, के "यह ख़िलक़त है भय्या ! बहू-बेटी को लक्ष्मी कहते ज़रुर है, मगर वास्तव में वो बाज़ार की लेन-देन की सामग्री बन गयी है ! जैसे गाय को माता कहते हैं मगर उसके खून से बने दूध को बाज़ार में बेचा जाता है ! यह नहीं देखा जाता, के इस गाय का दूध उसके टोगड़े के लिए पैदा होता है ! बस इसी तरह कन्या कितनी भी योग्य हो, मगर उसकी योग्यता उसके कल्याण के लिए न होकर उसके ससुराल के हित साधने के लिए होती है !" अब रचनाजी कुछ ऐसा कीजिये, आप ज़रा सत्ती की मार्मिक दशा का बखान करते हुए एक मार्मिक कहानी लिखें ! जोधपुर आ जाइए, देखिये उन सत्तियों की समाधियाँ, जिनको समाज पूजता आया है..पति के मरने के बाद अफवाह फैला दी जाती थी "अमुख मृतक की पत्नि पति के बिछोह के कारण जलकर सत्ती होना चाहती है ! फिर क्या उस ग़मगीन औरत को अफीम का प्याला पिला दिया जाता था ! बस वो ग़मगीन औरत नशे में नारियल लिए श्मसान जाती थी, और वहां तैयार चिता पर उसे बैठा दिया जाता! होश में आने पर वह अपने बचाव के लिए उठने का प्रयास करती तो ये समाज के ढोंगी लाठी का प्रहार कर उसे वापस चिता में ढकेल देते थे ! जलने के बाद उस औरत की समाधि बना दी जाती थी! कई पीढ़ियों तक उसके परिवार वाले समाधि पर आये चढ़ावे से लाभान्वित होते रहते हैं !" चांदपोल के बाहर आये श्मसान में कई सत्तियों के शिला-खंड आपको देखने के लिए मिल जायेंगे ! वहां आपको नाथावत व्यासों की सत्ती की समाधि भी मिल जायेगी, जिसका पीहर कल्लों की गली के पास बिस्सों के चौक में है ! ससुराल तापी बावड़ी के निकट वाली नाथावातो की गली में है ! कहते है, इस सत्ती का परचा है ! लोगों की मन्नत पूरी करती है ! उस सत्ती को पति की मौत के पहले होली के दिन नणन्द, जेठानियों ने कटु-शब्द सुनाये थे ! ऐसा कहते हैं, के उन कटु-शब्दों से आहत होकर पति की मौत के बाद, उसने सत्ती होने का निर्णय लिया था ! इसी तरह सिवांची-गेट के पास आपको बोहरों की सत्ती की समाधि भी मिल जायेगी, अब वो स्थान लोगों को शादी-ब्याव आदि कामों के लिए किराए पर दिया जाता है ! बस, रचानाजी आपको एक ही बात कहानी में दर्शानी है "औरत जीवित अवस्था में और मरने के बाद भी लाभ की वस्तु बनकर रह गयी है ! यानि ज़िंदा हाथी लाख का, और मरा हुआ हाथी सवा लाख का!
    दिनेश चन्द्र पुरोहित [लेखक एवं अनुवादक] dineshchandrapurohit2@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget