दनुिया दिलों की राह में दीवार न हो जाये
याँ ख्वाब देख लेना भी आज़ार न हो जाये
 
चांदी की चमक मेरी सदाक़त को न खा जाये
मेरी भी क़लम उनका परस्तार न हो जाये

ओहदे की तख्तयों से है इंसान की पहचान
मैं डर रहा हूँ घर कहीं बाज़ार न हो जाये

अपने ग़रज़ के दायरे में क़ैद है हर शख्स
ये सारा शहर ही कहीं बीमार न हो जाये


दो दिन में मिटने लगती है अब रिश्तों की शिद्दत
इंसान का दिल भी कहीं अखबार न हो जाये


ऐ हुक्मरानों! ख़ूब ज़रूरी है एहतियात
जो सो रही है ख़ल्क़, वो बेदार न हो जाये


ऐ निगेहबान-ए-दश्त! ये रखना ज़रा ख्याल
मेरे लहू से दश्त भी गुलज़ार न हो जाये

तू 'ज़ीस्त'-ए-जावदां' से तो टकराने चला है
ऐ मौत! देख तेरी कहीं हार न हो जाये

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget