IMAGE1
खड़े हैं
मुँह बाँधे
निकालकर कंघी
लहराते,सँवारते
अपने आप को
पेड़

अशोक बाबू माहौररचनाकार परिचय:-

नाम- अशोक बाबू माहौर
जन्म-10/01/1985
साहित्य लेखन - विभिन्न साहित्यक विधाओं में संलग्न
प्रकाशन: रचनाकार,स्वर्गविभा,हिन्दीकुंज,अनहद कृति आदि हिंदी की साहित्यक पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित
सम्मान: ई-पत्रिका अनहद कृति की तरफ से 'विशेष मान्यता सम्मान २०१४-१५' से अलंकृत
संपर्क: ग्राम-कदमन का पुरा,तहसील-अम्बाह,जिला-मुरैना (मध्य प्रदेश)

अनगिनत नीम के
शीशम के
स्तम्भ से
सीना तान
बबूल के


मंद समीर
इर्द-गिर्द दौड़कर
उनकी पत्तियाँ गिनती
करती बातायन
सबसे

खंगालती जड़ें
मिटटी हिला डुला कर


बैठकर शिखर पर
पेड़ की टहनयों पर
घूमकर
रगड़कर खुद को
छालों की
चटाई पर

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget