IMAGE1
छुट्टियों ने ताले डाल दिये, मई-जून की किवाड़ों पे


 सुशील कुमार 'मानव' रचनाकार परिचय:-



नाम : सुशील कुमार 'मानव' आजीविका :अनुवादक साहित्यिक कार्य: कविता,कहानी, गजल लिखना आयु 32 वर्ष, निवास: इलाहाबाद शिक्षा : हिंदी, समाज शास्त्र, और जैव-रसायन से परास्नातक मोबाइल नं. 8743051497

शिक्षकों के चेहरे भले ही गुलमोहर हो जायें,
पर छुट्टियां, इन भूखखोरों के लिए अमलतास नही।

सभ्यता के दरबार में मेरी पेशी होगी,
इन्हें इंसान कहने पर! जानता हूँ,
पर! इंसानों की कुछ अभिशप्त पीढ़ियां,
मिड डे मील से ही पलती हैं।

कंकड़,पत्थर, कीड़े - मकोड़े कुछ भी हों
पर, एक वक्त पेट की हांड़ी चढ़ती तो है।

इन भूखखोरों की मौजमस्ती का फलसफाँ,
छुट्टियों में नही, पंजीरी की फांकों में है।

पूछा था, एक भूखखोर नें- ‘नानी
क्यों नही मिली तू परियों से?

तेरी हर कहानी में दूध-भात और
घी चुपड़ी रोटियां ही होती हैं!’

प्यास से मुँह बाये तालों के हलक में,
घोंघे नही, झींगे नही, मछलियां नही।

खौलती भूख से, अंतड़ियों को लू लगी है,
छुट्टियों ने तथाकथित मानवता को,
संक्रमित होने से बचा लिया !

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget