[लाला जगदलपुरी जी की जयंति 17 दिसम्बर से आरम्भ एक सप्ताह की विशेष श्रंखला के अंतर्गत आज प्रस्तुत है उनका रचित एक गीत।] 

विकल करवटें बदल-बदल कर
भोगा हमने बहुत जागरण,
’गहराई’ चुप बैठे सुनती
’सतह’ सुनाते जीवन-दर्शन ।

देव दनुज के संघर्षों का
हमने यह निष्कर्ष निकाला,
’नीलकण्ठ’ बनते विषपायी
जब-जब होता अमृत-मंथन ।

सफल साधना हुई भगीरथ
नयनों में गंगा लहराई,
साँठ-गाँठ में उलझ गए सुख,
पीड़ा आई पीड़ा के मन ।

ऐसे-ऐसे सन्दर्भों से
जुड़ जुड़ गई सर्जना अपनी,
हृदय कर रहा निन्दा जिनकी
मुँह करता है उनका कीर्तन ।

गूँज रही है बार-बार कुछ
ऐसी आवाज़ें मत पूछो;
नहीं सुनाई देता जिनमें

जीवन का कोई भी लक्षण ।
===== 

1 comments:

  1. फेसबुक पर

    Krishna Sardul, Satish Kumar Padmatinti, DrRupendra Kavi और 17 अन्य को यह पसंद है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget