IMAGE1
आज मैं गूँगा नहीं हूँ,
न चकित हूँ न भ्रमित हूँ
न निश्चेष्ट ही
कल तक ये सारी बातें मुझमें थीं.


 शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव रचनाकार परिचय:-



शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव, गोरखपुर

मैं चकित था-
वर्षों की गुलामी से मुक्त हो सकता हूँ
शक्ति है मुझमें.
पर भ्रमित था
यह शक्ति उतारी गई है मुझमें
उभरी नहीं
मात्रा कुछ ही लोग हैं जिनमें
यह शक्ति उभर सकती है स्वयमेव.

अत: निश्चेष्ट था-
जब वह शक्ति उभरी नहीं
उभरनी भी नहीं
कुछ स्वयंभू पुरुषों का निमित्त ही हूँ, तो
अपनी पलकें स्वयं ही क्यो खोलूँ
नींद से जागूँ क्यों ?

किंतु
आज मेरी धरणा खुल गई है
पराग पंखुड़ियों को भेद कर
तिरता है वायु में
उनके कष्टों को आंदोलित कर
जीता है आंदोलन के सृजन क्षणों को
पराग के मौन की वाणी है अपनी
अस्तित्वमय.

मैं यह भेद समझ गया हूँ
अब मैं बोलने लगा हूँ
मेरी आँखें खुल चुकी हैं
मैं उषा के निमीलन में नहीं हूँ
मुझे एहसास हो चुका है
मैं ही अपना भाग्यविधता हूँ
मेरी प्रतिब(ता पहले उस ईकाई से है
जिसे राष्ट्र कहते हैं
फ्रिफर उस पूरे से है
जिसे विश्व कहते हैं
मैं उस मानवता के लिए संघर्ष करूँगा
अब मुझे संघर्ष करने आ गया है.

1 comments:

  1. कविता के प्रकाशन के लिए साहित्य शिल्पी को धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget