IMAGE1
हमारे देश में टी वी युग के आरंभ से एक नए आतंकवाद का जन्म हो गया है, वो है ‘बातों का आतंकवाद’ ....|


 सुशील यादव रचनाकार परिचय:-



यत्रतत्र रचनाएं ,कविता व्यंग गजल प्रकाशित | दिसंबर १४ में कादम्बिनी में व्यंग | संप्रति ,रिटायर्ड लाइफ ,Deputy Commissioner ,Customs & Central Excise ,के पद से सेवा निवृत, वडोदरा गुजरात २०१२ में सुशील यादव New Adarsh Nagar Durg (C.G.) ०९४०८८०७४२० susyadav7@gmail.com

चेनल वाले बड़-बोलों का, पेनल बना के रोज-रोज नया तमाशा परोसने में लगे हैं |अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता की आड़ में भड़काऊ वाद-विवाद आये दिन जनतांत्रिक देश में, तांत्रिक रूपी एंकर द्वारा चीख-चीख कर कहा जाता है कि ‘चैन से सोना है तो जाग जाओ’......?ये कैसी जागृति का ढिढोरा है ....?जो जनता के कान खाए जा रही है |शायद ही इतना विस्फोटक और विनाशकारी ‘वार्ता-बम’ किसी भी देश के, मीडिया-वालों के हाथ अब तक लग पाया हो जो अपने यहाँ रोज विस्फोटित होते रहता है |

दुश्मनी भाजने में इन चेंल्बाजों का कोई सानी नहीं|सब एकतरफा एक सुर में हमला बोलते हैं |जिस किसी का ये गुणगान कर दें उन्हें देश की गद्दी पकड़ा के दम लेते हैं |एक बार हादी चढाने का तजुर्बा हो गया तो प्रयोग दुहराया जाने लगा |

पर दिल्ली बिहार राज्य के मामले में,उनकी हांडी दुबारा चढाने की बस हसरत ही रह गई |उन्होंने अपनी तरफ से , भरपूर कोशिश की मगर जनता को बना-मना नहीं पाये |

पुराने जमाने में , इस ‘बातूनी आतंकवाद’ का अंडर करंट, सामन्ती-राजसी व्यवस्था में देखने को मिलता था |किसी जगह राजा ,कहीं मालगुजार कहीं का सूबेदार तो कहीं सूदखोर बनिया जमात की बातें ‘दबंगई’ लिए होती थी |उनका कहा एक मायने में, कानून या फतवा से कम नहीं आंका जाता था |

जनता को इनका सामना करने के बाद मुक्ति मिल जाती रही हो, ऐसा भी नहीं था |वे इनके अलावा , दीगर आतताइयों से भी निपटते थे ,निपटते क्या थे अपने आप को पिटवाने के लिए परस देते थे |वे जाति के नाम, मजहब के नाम खुद को नोचवाने -खसोटवाने के लिए बाध्य होने की श्रेणी में गिने जाते थे |

उनकी डिक्शनरी में,या उनकी सोच में ,इन आकाओं के प्रति कभी कोई असहिष्णुता का भाव दूर दूर तक पैदा नहीं हुआ | ‘माई-बाप’ के लिए ,विद्रोह या बगावत की कभी सपने में भी सोचा जाना पाप की केटेगरी का हुआ करता था |वे दयनीय से दयनीय किसी हालात में भी गुजरे उनकी पत्नियों का मनोबल कभी टूटता सा नहीं दिखा करता |अपने पतियों के सामने कभी मुह नहीं खोलने वाली स्त्रियाँ, घर या गाँव छोड़ के जाने की बात कभी कर या कह भी नहीं पाती थी ....?

अब हालात बदले हैं |अच्छी बात है कि आज आप, जी-भर के किसी को भी कोस सकते हैं |किसी को इस मुल्क में रहने या उसका तंबू उखाड़ने की बात क्र सकते हैं |किसी को तमाचा जड़ने के लिए खुलेआम इनाम इकराम की व्यवस्था किया जा सकता है |किसी टार्गेट को उसके बयान और गतिविधियों के इतिहास का बखान करके, कालिख पोतने और पोछने की राजनैतिक कवायद की जा सकती है |एक से एक बोल-बचन,चेनल के माध्यम से हाईलाईट हुआ करते हैं |सुबह अखबार की सुर्ख़ियों में कमजोर दिल वाले पढ़ कर दुआ मनाते हैं कि फिलहाल आंच उन तक नहीं पहुच पाई है |

मान हानि के दावे , यदि फिफ्टी परसेंट केस में ‘बुक’ होने लगे तो फरियाद में लगने वाले कागज़ की पूर्ती हेतु एक इंडस्ट्री लग सकती है |टाइपिस्ट की इफरात मांग बढ़ सकती है ,नौकरी के नये सेक्टर बन सकते हैं |लेपटाप की बिक्री जोर पकड़ सकती है| तरफदारी करने वाले हिमायती, या विरोध पक्ष के वकीलों का अकाल पड सकता है |

दरअसल ,इस देश में “लघु शंकाओं का निवारण” ठीक से नहीं हो पा रहा है |सरकार सोचती है की एयर- कंडीशन-शौचालय बना देने से बात बन जाएगी |वे गलत हैं |ये लघुशंका, किडनी उत्सर्जित ताज्य अवशेषों का नहीं है,वरन , जनता की दिमाग उत्सर्जित विष्ठा है |इसे हटाने के लिए,फकत चार पेनलिस्टबीच अपना एक प्रवक्ता मात्र , टी वी में बिठा देने से मामला बनने की जगह बिगड़ता दिखता है |ये लोग ताबड़तोड़ बातों की गोलियां, स्टेनगन माफिक चलाने लग जाते हैं |इन्हें कोई भी टापिक दे दो, ये सभी इस मुस्तैदी से डट जाते हैं कि सालुशन केवल उनकी बात में है |ये कभी किसी बलात्कारी संत का बचाव करते दीखते हैं तो कभी मांस के नाम पर मारे गए व्यक्ति के, हत्यारों की पैरवी कर डालते हैं |ये लोग अपने फैब्रिकेटेड-आंकड़ों पर महीनों बहस बेवजह करवा लेते हैं कि, अमुक पार्टी क्लीन स्वीप कर रही है, जबकि परिणाम एकदम विपरीत आता है |यानी जिसका ये दम भरे होते हैं, वही धाराशायी हुआ दिखता है |टी आर पी का खेल गजब का है .....?

जनता बेचारी इडियट बाक्स के एक और आतंक से रूबरू हो रही है ,वो है इनका बाजार भाव में अपनी टाग घुसेड़ना |

होता ये है कि जो अनाज- सब्जी आपके स्थानीय बाजार में कम कीमतों में मिल रही होती है, एक बार दिल्ली की कीमत सुनते ही अपने-आप उछल जाती है |आप बाजार में टमाटर बीस रुपये किलो में तुलवा रहे हैं, तभी दूकानदार की टी व्ही में, अस्सी रूपये किलो का एलान होता है ,दूकानदार वापस अपनी तौल खीच लेता है |कभी दालें सत्तर-अस्सी रूपये किलो की हुआ करती थी ,इनकी बातों ने कीमतों में जहर घोल दिया |ये लोग ,बकायदा रिपोर्ट दिखा देते हैं, फलाने स्टेट में इस साल कम बारिश के चलते दलहन तिलहन फसल चौपट होने के आसार हैं,लो बढ़ गए दाम |

कभी-कभी तो यूँ भी लगता है,कि किसी सटोरिये-लाबी वालों की चल रही है वे इधर स्टाक जमा किये, उधर दाम बढ़ने की बात कह दी |

सरकार कहाँ होती है या कहाँ सोती है......पता नहीं चलता ?

किसी को सुध लेने की जरूरत नहीं महसूस होती |

जनता बेचारी तंग आ के मन बहलाव् की दीगर खबरों में, अपनी (अल्प) बुद्धि खर्च करने में लग जाती हैं|

पसंद न हो तो, चेनल बदलने का अधिकार अभी सब के पास बरकरार है,यही काफी है .....| ........ .?

सुशील यादव

2 comments:

  1. फेसबुक पर

    Saira Bano, Lal Baghel, Rakesh Chandra Sharma और 11 अन्य को यह पसंद है.
    टिप्पणियाँ
    नवीन कुमार तिवारी
    नवीन कुमार तिवारी sadar naman vandematarm
    पसंद · जवाब दें · 29 जनवरी को 03:08 अपराह्न बजे

    लोग जो इसे पसंद करते हैं
    बंद करें

    मित्र
    मित्र
    Rajeev Ranjan Srivastava
    159 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Bablu Siddique
    98 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    लक्ष्मी नारायण लहरे
    209 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Dattatraya Naik
    11 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Nitin Sinha
    145 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    नवीन कुमार तिवारी
    127 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Saira Bano
    54 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Rakesh Chandra Sharma
    43 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Nakul Mandavi
    17 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Shashikant Yadav
    101 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Ashish Das
    28 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Lal Baghel
    117 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Vijay Jha
    215 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Vinod Malviya
    22 आपसी मित्र

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुशीलजी काफी अच्छा व्यंग लिखा है, आपने! देश का सत्ता-दल मीडिया को गुलाम बनाए रखता है, उसे विज्ञापन रूपी टुकड़ा डाल जाता है, उस विज्ञापन रूपी हड्डी को चूषता हुआ यह मीडिया यह समझ नहीं पाता "जिस खून का वह स्वाद ले रहा है, वह विज्ञापन रूपी हड्डी का खून नहीं हैं, बल्कि वह उसका ख़ुद का खून है! जिसे अभी तक, वह उस मूर्ख कुत्ते की तरह चूषता जा रहा है! बस, वह भी उस मूर्ख कुत्ते की तरह अपना नुक्सान करवाकर.. यह मीडिया सत्ता के सिहासन पर बैठने वाले का गुण-गान करता जा रहा है! कल उसके बोलने की आजादी छीन ली गयी, तब सबसे बड़ा नुक्सान मीडिया का ही होगा..आज़ादी छीनेगा भी वही, जिसका वह यशो-गान करता जा रहा है!" सुशीलजी ऐसे व्यंग ज़रूर लिखा करें, जिससे आवाम की आँखें खुली रहे..!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget