IMAGE1
कैसा समय है यह
जब हल कोई चला रहा है
अन्न और खेत किसी का है
ईंट-गारा कोई ढो रहा है
इमारत किसी की है
काम कोई कर रहा है
नाम किसी का है

 सुशान्त सुप्रियरचनाकार परिचय:-



नाम : सुशांत सुप्रिय ( कवि , कथाकार व अनुवादक ) जन्म : २८ मार्च , १९६८ प्रकाशित कृतियाँ : # कथा-संग्रह -- हत्यारे ( २०१० ) हे राम ( २०१२ ) # काव्य-संग्रह -- एक बूँद यह भी ( २०१४ ) ( सभी पुस्तकें नेशनल पब्लिशिंग हाउस , जयपुर से ) कविताएँ व कहानियाँ कई भाषाओं में अनूदित व पुरस्कृत । संपर्क : मो -- 8512070086 ई-मेल : sushant1968@gmail.com

कैसा समय है यह
जब भेड़ियों ने हथिया ली हैं
सारी मशालें
और हम निहत्थे खड़े हैं

कैसा समय है यह
जब भरी दुपहरी में अँधेरा है
जब भीतर भरा है
एक अकुलाया शोर
जब अयोध्या से बामियान तक
ईराक़ से अफ़ग़ानिस्तान तक
बौने लोग डाल रहे हैं
लम्बी परछाइयाँ

2 comments:

  1. फेसबुक पर

    Bablu Siddique, Shyamsundar Dwivedi, Rakesh Chandra Sharma और 11 अन्य को यह पसंद है.

    Krishna Dhar Sharma
    705 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Anil Mishra
    173 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Bhavesh Taunk
    6 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Sunil Kumar Thakur
    302 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Nitin Sinha
    145 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Sanjida Iqbal
    183 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Bablu Siddique
    98 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Rakesh Chandra Sharma
    43 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Lalit Sharma
    404 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Himanshu Shekhar Jha
    64 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Vishwa Deepak
    198 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Shyamsundar Dwivedi
    4 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Abhishek Sagar
    94 आपसी मित्र
    मित्र
    मित्र
    Ranu Tiwari
    109 आपसी मित्र

    उत्तर देंहटाएं
  2. ईराक़ से अफ़ग़ानिस्तान तक
    बौने लोग डाल रहे हैं
    लम्बी परछाइयाँ


    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget